मासिक करेंट अफेयर्स

17 November 2020

मशहूर बंगाली अभिनेता सौमित्र चटर्जी का निधन

मशहूर बंगाली अभिनेता सौमित्र चटर्जी (Soumitra Chaterjee) का 15 नवंबर 2020 को निधन हो गया है. वे लंबे समय से बीमार चल रहे थे. वे 85 साल के थे. पिछले कई महीनों से उनके स्वास्थ्य खराब चल रहा था और वे कोलकाता के निजी अस्पताल में भर्ती थे. 
सौमित्र चटर्जी के निधन से राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री मोदी समेत कई राजनीतिक हस्तियों ने गहरा शोक व्यक्त किया है. सौमित्र चटर्जी के निधन पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दुख प्रकट करते हुए कहा कि भारतीय सिनेमा ने अपनी एक दिग्गज अभिनेता खो दिया है. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने भी उनके निधन पर शोक जताया है.

सौमित्र चटर्जी को 2018 में फ्रांस के सर्वोच्च नागरिक सम्मान ‘लीजन डी ऑनर’ से सम्मानित किया गया था. कई बार अपने अभिनय के लिए नेशनल अवॉर्ड पा चुके सौमित्र चटर्जी को साल 2012 में दादा साहेब फाल्के अवॉर्ड से भी नवाज़ा गया था. उन्हें साल 2004 में भारत के तीसरे सर्वोच्च नागरिक सम्मान पद्म भूषण से सम्मानित किया गया. उन्हें फ्रांस के सर्वोच्च नागरिक सम्मान लीज़न द'ऑनर से भी सम्मानित किया गया था. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने उनके निधन पर शोक व्यक्त किया है. ट्वीट के जरिए दिए अपने शोक संदेश में प्रधानमंत्री मोदी ने कहा, सौमित्र चटर्जी का निधन विश्व सिनेमा के साथ-साथ पश्चिम बंगाल और पूरे देश के सांस्कृतिक जीवन के लिए बहुत बड़ी क्षति है. उनके निधन से अत्यंत दुख हुआ है. परिजनों और प्रशंसकों के लिए मेरी संवेदनाएं. ओम शांति!

सौमित्र चटर्जी का जन्म 19 जनवरी 1935 को पश्चिम बंगाल में नादिया ज़िले के कृष्णानगर में हुआ था. उनकी प्राथमिक शिक्षा कृष्णानगर में ही हुई थी. स्कूल में पढ़ने की उम्र से ही सौमित्र ने एक्टिंग शुरू कर दी थी. सौमित्र चटर्जी ने 200 से अधिक फ़िल्मों में काम किया. उन्होंने जाने-माने निर्देशक सत्यजीत रे की फ़िल्म 'अपूर संसार' से अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत की थी. इसके बाद उन्होंने 'जॉय बाबा फेलूनाथ' में फेलूदा का किरदार निभाया. सौमित्र चटर्जी बांग्ला सिनेमा की बड़ी शख्सियत थे. सौमित्र चटर्जी बांग्ला सिनेमा के लेजेंड थे. सौमित्र चटर्जी की दमदार एक्टिंग और उनका स्क्रीन प्रेजेंस उन्हें फिल्ममेकर्स का फेवरेट बनाता था. उन्होंने फ़िल्मों में कई तरह के किरदार निभाए. वे 'शोनार किल्ला' में वो शरलॉक होम्स की तरह के एक जासूस के किरदार में नज़र आए. महान बंगाली अभिनेता और दादा साहेब फाल्के पुरस्कार से सम्मानित सौमित्र चटर्जी को ऑस्कर विजेता फिल्म निर्देशक सत्यजीत रे के साथ उनके सहयोग के लिए जाना जाता था.

No comments:

Post a comment