31 December 2021

साहित्य अकादमी पुरस्कार 2021

साहित्य अकादमी ने इस वर्ष के प्रतिष्ठित ‘साहित्य अकादमी पुरस्कारों’  की घोषणा कर दी है. साहित्य अकादेमी ने आज 20 भाषाओं में अपने वार्षिक साहित्य अकादेमी पुरस्कार-2021 की घोषणा की. 
इस वर्ष हिंदी साहित्य के लिए वरिष्ठ लेखक दया प्रकाश सिन्हा और अंग्रेजी के लिए नमिता गोखले को साहित्य अकादमी पुरस्कार के लिए चुना गया है. पुरस्कारों की अनुशंसा 20 भारतीय भाषाओं के निर्णायक समितियों द्वारा की गई थी. इनमें सात किताबें कविता की, दो उपन्यास, पांच लघु कथाएं, दो नाटक और एक-एक जीवनी, आत्मकथा, आलोचना और महाकाव्य की हैं. नमिता गोखले का अंग्रेजी

22 December 2021

मुहम्मद गौरी का भारत पर आक्रमण



शिहाबुद्दीन उर्फ़ मुइज़ुद्दीन मुहम्मद ग़ौरी 12वीं शताब्दी का अफ़ग़ान सेनापति था जो 1202 ई. में ग़ौरी साम्राज्य का सुल्तान बना. 
ग़ोरी राजवंश की नीव अला-उद-दीन जहानसोज़ ने रखी और सन् 1161 में उसके देहांत के बाद उसका पुत्र सैफ़-उद-दीन ग़ोरी सिंहासन पर बैठा. अपने मरने से पहले अला-उद-दीन जहानसोज़ ने अपने दो भतीजों - शहाबुद्दीन (मुहम्मद ग़ोरी) और ग़ियास-उद-दीन - को क़ैद कर रखा था लेकिन सैफ़-उद-दीन ने उन्हें रिहा कर दिया. उस समय ग़ोरी

18 December 2021

भारत पर महमूद गजनवी का आक्रमण



महमूद गजनवी गजनी का प्रमुख शासक था जिसने 997 से 1030 तक शासन किया.  वह सुबक्त्गीन का पुत्र था. भारत की धन-संपत्ति से आकर्षित होकर, गजनवी ने भारत पर कई बार आक्रमण किए. वास्तव में गजनवी ने भारत पर 17 बार आक्रमण किया. उसके आक्रमण का मुख्य मकसद भारत की संपत्ति को लूटना था.
 महमूद गजनी ने पहली बार 1001 ईस्वी में आधुनिक अफ़्गानिस्तान और पाकिस्तान पर हमला किया था. इसने हिन्दू शासक जयपाल को पराजित किया जिसने बाद में आत्महत्या कर ली और उसका पुत्र आनंदपाल उसका उत्तराधिकारी बना.

17 December 2021

भारत पर मोहम्मद बिन कासिम का आक्रमण



मुहम्मद बिन क़ासिम इस्लाम के शुरूआती काल में उमय्यद ख़िलाफ़त के एक अरब सिपहसालार थे. उनहोंने 17 साल की उम्र में भारतीय उपमहाद्वीप के पश्चिमी इलाक़ों पर हमला बोला और सिन्धु नदी के साथ लगे सिंध और पंजाब क्षेत्रों पर क़ब्ज़ा कर लिया. यह अभियान भारतीय उपमहाद्वीप में आने वाले मुस्लिम राज का एक बुनियादी घटना-क्रम माना जाता है. इन्होंने राजा दाहिर को रावर के युद्ध में बुरी तरह परास्त किया. 
मुहम्मद बिन क़ासिम का

16 December 2021

देखिए पैगंबर के निधन के बाद खलीफा बनने के लिए कैसे छिड़ा युद्ध



खलीफा अरबी भाषा में ऐसे शासक को कहते हैं जो किसी इस्लामी राज्य या अन्य शरिया (इस्लामी कानून) से चलने वाली राजकीय व्यवस्था का शासक हो. पैगम्बर मुहम्मद की 8 जून 632 ईसवी में मृत्यु के बाद खलीफा पूरे मुस्लिम क्षेत्र के राजनैतिक नेता माने जाते थे. खलीफाओं का सिलसिला अन्त में जाकर उस्मानी साम्राज्य के पतन पर तुर्की के शासक मुस्तफा कमालपाशा द्वारा 1924 ई॰ में ही समाप्त हुआ. अरबी में 'खलीफा' शब्द का मतलब 'प्रतिनिधि' या 'उत्तराधिकारी' होता

11 December 2021

भारत पर सेन राजवंश की स्थापना


सेन राजवंश भारत का एक राजवंश का नाम था, जिसने 12वीं शताब्दी के मध्य में बंगाल पर अपना प्रभुत्व स्थापित किया. सेन राजवंश ने बंगाल पर 160 वर्राषो तक राज किया. अपने चरमोत्कर्ष के समय भारतीय महाद्वीप का पूर्वोत्तर क्षेत्र इस साम्राज्य के अन्तर्गत आता था. इस वंश का मूलस्थान कर्णाटक था. पालवंश के राजा
 देवपाल के समय से पाल सम्राटों ने कर्णाटक के कुछ साहसी वीरों को अधिकारी पदों पर नियुक्त किया. कालांतर में ये अधिकारी, जो दक्षिण से आए थे, शासक बन गए और स्वयं को राजपुत्र कहने लगे.

मगध पर पालवंश की स्थापना



पालवंश पूर्व मध्यकालीन राजवंश था 
जिन्होंने मगध पर 750ई. से लेकर 1174 ई. तक शासन किया. जब हर्षवर्धन काल के बाद समस्त उत्तरी भारत में राजनीतिक, सामाजिक एवं आर्थिक गहरा संकट उत्पन६न हो गया, तब बिहार, बंगाल और उड़ीसा के सम्पूर्ण क्षेत्र में पूरी तरह अराजकत फैली थी. इसी समय गोपाल ने बंगाल में एक स्वतन्त्र राज्य घोषित किया. जनता द्वारा गोपाल को सिंहासन पर आसीन किया गया था. वह योग्य और कुशल शासक था, जिसने 750 ई. से 770

07 December 2021

देखिए लिच्छवी की सुंदरी आम्रपाली के खूबसूरती के कारण वैशाली में गृह युद्ध छिड़ा तो क्यों आम्रपाली को नगर वधू बनना पड़ा ?



वह बहुत खूबसूरत थी, उसकी आंखें बड़ी-बड़ी और काया बेहद आकर्षक थी. जो भी उसे देखता था वह अपनी नजरें उस पर से हटा नहीं पाता था. लेकिन उसकी यही खूबसूरती, उसका यही आकर्षण उसके लिए श्राप बन गया. एक आम लड़की की तरह वो भी खुशी-खुशी अपना जीवन जीना चाहती थी लेकिन ऐसा हो नहीं सका. वह अपने दर्द को कभी बयां नहीं कर पाई और अंत में वही हुआ जो उसकी नियति ने उससे करवाया. 
यही खूबसूरती आम्रपाली के लिए जी का जंजाल बना और कोठे पर लाकर बैठा दिया. वह किसी की पत्नी तो नहीं बन सकी लेकिन संपूर्ण नगर की नगरवधू जरूर बन गई. आम्रपाली ने अपने लिए यह जीवन स्वयं नहीं चुना था. उस काल में समाज के नीति-निर्माताओं ने आम्रपाली को नगरवधू बनाकर कोठे पर बैठा दिया. उन लोगों की राय थी कि किसी एक की पत्नी ना बनाकर नगर को सौंप दिया जाए, इससे गणराज्य की अखंड़ता बरकरार रहेगी.

06 December 2021

देखिए वर्धन वंश के राजा हर्षवर्धन ने अपने भाई के हत्या का बदला लेने के लिए मालवा और गौड़ के शासको का किस प्रकार नरसंहार किया



पुष्यभूति राजवंश जिसे वर्धन वंश के रूप में भी जाना जाता है, ने छठी और सातवीं शताब्दी के दौरान उत्तरी भारत के कुछ हिस्सों पर शासन किया. पुष्यभूति श्रीकांत जनपद (आधुनिक कुरुक्षेत्र जिला ) में रहते थे, जिनकी राजधानी  थानेसर थी. शिव के एक भक्त, पुष्यभूति "दक्षिण" के एक शिक्षक, भैरवाचार्य के प्रभाव में, एक श्मशान भूमि पर एक तांत्रिक अनुष्ठान में शामिल हो गए. इस अनुष्ठान के अंत में, एक देवी ने उन्हें राजा का अभिषेक किया और उन्हें एक महान राजवंश के संस्थापक के रूप में आशीर्वाद दिया. पुष्यभूति वंश ने मूल रूप से अपनी राजधानी थानेसर के आसपास के एक छोटे से क्षेत्र पर शासन किया. इतिहासकारों के अनुसार, उनके

03 December 2021

मगध पर गुप्तवंश की स्थापना

गुप्त राजवंश प्राचीन भारत के प्रमुख राजवंशों में से एक था. इतिहासकारों द्वारा इस अवधि को भारत का स्वर्ण युग माना जाता है. मौर्य वंश के पतन के बाद दीर्घकाल में भारत में राजनीतिक एकता स्थापित नहीं रही. मौर्य वंश के पतन के पश्चात नष्ट हुई राजनीतिक एकता को पुनः स्थापित करने का श्रेय गुप्त वंश को है. गुप्त साम्राज्य की नींव तीसरी शताब्दी के चौथे दशक में तथा उत्थान चौथी शताब्दी की शुरुआत में हुआ। गुप्त वंश का प्रारम्भिक राज्य आधुनिक उत्तर प्रदेश और बिहार में था. गुप्त राजवंश की स्थापना महाराजा गुप्त ने लगभग 275 ई.में की थी. उनका वास्तविक नाम श्रीगुप्त था. श्रीगुप्त के समय में महाराजा की उपाधि सामन्तों को प्रदान की जाती थी, अतः श्रीगुप्त किसी के अधीन शासक था. प्रसिद्ध इतिहासकार के. पी. जायसवाल के अनुसार श्रीगुप्त भारशिवों के अधीन छोटे से राज्य प्रयाग का शासक था. श्रीगुप्त ने मगध के मृग शिखावन में एक मन्दिर का निर्माण करवाया था तथा मन्दिर के व्यय में 24 गाँव को दान दिये थे.

01 December 2021

मगध पर शुंगवंश, कण्ववंश एंव सातवाहन वंश की स्थापना

मगध साम्राज्य के महान मौर्य सम्राट अशोक की मृत्यु लगभग 236 ई.पू. में हुई थी. मौर्य सम्राट की मृत्यु के उपरान्त करीबन दो सदियों से चले आ रहे शक्‍तिशाली मौर्य साम्राज्य का विघटन होने लगा. अशोक के उपरान्त अगले पाँच दशक तक उनके निर्बल उत्तराधिकारी शासन संचालित करते रहे. मौर्य सम्राज्य का अन्तिम सम्राट वृहद्रथ था जिसके शासन काल में भारत पर विदेशी आक्रमण बढते जा रहे थे. सम्राट बृहद्रथ ने उनका मुकाबला करने से मना कर दिया. तब प्रजा और सेना में विद्रोह होने लगा. उस समय पुष्यमित्र शुंग मगध का सेनापति था. एक दिन राष्ट्र और सेना के बारे में अप्रिय वचन कहने के कारण क्रोधित होकर सेनापति पुष्यमित्र शुंग ने राजा बृहद्रथ की हत्या कर दी. इस कार्य के पश्चात सेना और प्रजा ने पुष्यमित्र शुंग का साथ दिया. इसके बाद मौर्य सम्राज्य समाप्त हो गया और पुष्यमित्र शुंग ने स्वयं को सम्राट घोषित किया और एक नये राजवंश शुंग सम्राज्य की स्थापना की.

24 November 2021

गुरु तेग बहादुर सिंह जिन्होंने धर्म की रक्षा के लिए शहीद हो गये लेकिन कभी मुगलो के आधिपत्य को स्वीकार नहीं किया

भारत में सभी धर्मों को समान नजर से देखा जाता है लेकिन यह कथन हमेशा सिर्फ कागजी ही लगता है. इतिहास गवाह है कि भारत में धर्म के नाम पर बहुत ही क्रुर दंगे हुए हैं. यह दंगे ना सिर्फ भारत की धर्म-निरपेक्षता पर बहुत बड़ा सवाल खड़ा करते हैं बल्कि यह दंगे उस देश में हो रहे हैं जहा महापुरुषों ने अपने जीवन का बलिदान तक देकर धर्म की रक्षा की है. धर्म के नाम पर मर मिटने की जब भी बात होती है तो सिख समुदाय के गुरुतेग बहादुर जी का नाम बड़ी ही इज्जत और सम्मान के साथ लिया जाता है. अपने धर्म के नाम पर उन्होंने अपने सिर को भी कुर्बान कर दिया. आज उनका बलिदान दिवस है तो चलिए जानते हैं उनके बारें में कुछ बातें.

21 November 2021

चंद्रगुप्त मौर्य जिन्होंने नंदवंश के राजा घनानंद को पराजित कर मौर्य साम्राज्य की स्थापना की

चन्द्रगुप्त मौर्य ने अपने गुरू चाणक्य की सहायता से 322 ई.पू. में धनानन्द की हत्या कर मौर्य वंश की नींव डाली थी. चन्द्रगुप्त मौर्य ने नन्दों के अत्याचार व घृणित शासन से मुक्‍ति दिलाई और देश को एकता के सूत्र में बाँधा और मौर्य साम्राज्य की स्थापना की. चन्द्रगुप्त पिप्पलिवन के सूर्यवंशी मौर्य वंश का था. चन्द्रगुप्त के पिता पिप्पलिवन के नगर प्रमुख थे. जब वह गर्भ में ही था तब उसके पिता की मृत्यु युद्धभूमि में हो गयी थी. चंद्र गुप्त मौर्य की माता का नाम मुरा था. जब चन्द्रगुप्त 10 वर्ष के थे तो उनकी मां मुरा का भी देहांत हो गया था और तब से उनकी परवरिश एक गोपालक द्वारा किया गया था. चरावाह तथा शिकारी रूप में ही राजा-गुण होने का पता आचार्य चाणक्य ने कर लिया था तथा उसे एक हजार में खरीद लिया. तत्पश्‍चात्‌ तक्षशिला लाकर सभी विद्या में निपुण बनाया.

20 November 2021

मगध सम्राज्य पर शिशुनाग राजवंश एंव नन्द सम्राज्य की स्थापना

मगध में हर्यक वंश के राजा नागदशक को उसका सेनापति शिशुनाग ने राज्य विद्रोह कर 492 ई.पू. में हत्या कर दिया और स्वंय मगध का राजा बन गया और मगध पर इस प्रकार शिशुनाग वंश की स्थापना की. शिशुनाग लिच्छवि राजा के वेश्या पत्‍नी से उत्पन्‍न पुत्र था. पुराणों के अनुसार वह क्षत्रिय था. इसने सर्वप्रथम मगध के प्रबल प्रतिद्वन्दी राज्य अवन्ति पर आक्रमण कर उसे अपने राज्य में मिलाया. मगध की सीमा पश्‍चिम मालवा तक फैल गई और वत्स को मगध में मिला दिया. वत्स और अवन्ति के मगध में विलय से, पाटलिपुत्र को पश्‍चिमी देशों से व्यापारिक मार्ग के लिए रास्ता खुल गया.

19 November 2021

इश्क के दरिया में डूबकर फ़ना हो जाने वाले रोमियो की क्या थी प्रेम कहानी

योगी आदित्यनाथ ने उत्तर प्रदेश के सिंहासन पर बैठते ही मनचले युवकों के खिलाफ मुहिम छेड़ दी है. पुलिस की टीम दल-बल के साथ बड़े बाज़ारों और पार्कों में ऐसे युवा युगल जोड़ियों की तलाश कर रहे हैं. सरकार ने पुलिस के इस दल का नाम रखा है – ऐंटी रोमियो स्क्वाड. लेकिन जब से प्रदेश में यह स्‍क्‍वायड शुरू हुआ है तब से रोमियो के बारे में जानने की लोगों में उत्सुकता बढ़ गई है. लेकिन क्‍या आप जानते हैं कि अपनी प्रेमिका जूलियट के साथ इश्‍क फरमाने वाला यह रोमियो असल में कौन था?

गुरू नानक जयंती

सिख धर्म के संस्थापक बाबा गुरू नानक देव की जयंती आज 19नवंबर को दुनिया भर में मनाई गई. सिख समुदाय के लिए ये दिन बहुत ही विशेष है. सिखों के प्रथम गुरु नानकदेवजी की जयंती को प्रकाश पर्व के रूप में मनाया जाता है. गुरू नानक सिखों के प्रथम गुरु (आदि गुरु) हैं. इनके अनुयायी इन्हें गुरु नानक, गुरु नानक देव जी, बाबा नानक और नानकशाह नामों से संबोधित करते हैं. गुरुनानाक देव जी का जन्म रावी नदी के किनारे स्थित तलवंडी नामक गांव में कार्तिक पूर्णिमा को हुआ था.

देखिए मगध पर हर्यक वंश के संस्थापक बिंबिसार

बिम्बिसार को मगध साम्राज्य का वास्तविक संस्थापक/राजा माना जाता है. बिम्बिसार ने हर्यक वंश की स्थापना 544 ई.पू. में की थी. इसके साथ ही राजनीतिक शक्‍ति के रूप में बिहार का सर्वप्रथम उदय हुआ. बिम्बिसार ने गिरिव्रज (राजगीर) को अपनी राजधानी बनायी. बिम्बिसार एक कूटनीतिज्ञ और दूरदर्शी शासक था. उसने प्रमुख राजवंशों में वैवाहिक सम्बन्ध स्थापित कर राज्य को फैलाया. सबसे पहले उसने लिच्छवि गणराज्य के शासक चेतक की पुत्री चेलना के साथ विवाह किया. दूसरा प्रमुख वैवाहिक सम्बन्ध कौशल राजा प्रसेनजीत की बहन महाकौशला के साथ विवाह किया. इसके बाद भद्र देश की राजकुमारी क्षेमा के साथ विवाह किया.

राजनीतिक विचारधारा का लेफ्ट और राइट में बंटवारा, क्यों वामपन्थी नहीं स्वीकारना चाहते राष्ट्रवाद

भारत में राजनीति का इतिहास बहुत ही गहरा है जिसके बारे में बहुत कम लोग ही जानते हैं. भारत वो देश है जहाँ के हालात बहुत ही भिन्न रहे फिर वो चाहे हिन्दू राजाओं का दौर हो, मुस्लिम साम्राज्य का दौर हो या फिर अंग्रेजी शासन का दौर हो भारत दूसरों के द्वारा थोपी हुई विचारधारा के अधीन ही रहा जिसका कारण था राष्ट्रवाद की भावना का ना होना और देश के अपने ही लोगों में वैचारिक मतभेद. खैर राजा महाराजा एवं अंग्रेजों के दौर को मैं

18 November 2021

अखंड भारत में शासन व्यवस्था और मगध सम्राज्य का उदय

प्राचीन काल में छठी शताब्दी ईoपूo में अखण्ड भारत में शासन व्यवस्था चलाने के लिए अखण्ड भारत को सोलह महाजनपदों में बाटा गया था. इसकी जानकारी बौद्ध ग्रन्थ अंगुत्तर निकाय और जैन ग्रन्थ भगवतीसूत्र से प्राप्त होती है. इन 16 महाजनपदों में से 14 राजतंत्र और दो (वज्जि, मल्ल) गणतंत्र थे. बुद्ध काल में सर्वाधिक शक्तिशाली महाजनपद था– वत्स, अवन्ति, मगध, कोसल.

17 November 2021

देखिए जम्बूद्वीप से अखंड भारत कैसे बना और फिर टुकड़े-टुकड़े में खंडित कैसे हुआ

अखंड बोलना इसलिए पड़ता है क्योंकि सबकुछ खंड-खंड हो चला है. जम्बूद्वीप से छोटा है भारतवर्ष. भारतवर्ष में ही आर्यावर्त स्थित था. आज न जम्बूद्वीप है न भारतवर्ष और न आर्यावर्त. आज सिर्फ हिन्दुस्थान है और सच कहें तो यह भी नहीं. आओ जानते हैं भारतवर्ष के बनने की कहानी: 

इंद्र के बाद व्यवस्थाएं बदली और स्वायंभुव मनु संपूर्ण धरती के शासन बने. उनके काल में धरती सात द्वीपों में बंटी हुई थी. जम्बू, प्लक्ष, शाल्मली, कुश, क्रौंच, शाक एवं पुष्कर. इसमें से जम्बू द्वीप सभी के बीचोबीच स्थित है. जिसमें से सिर्फ जम्बूद्वीप पर ही अधिकांश आबादी रहती थी. बाकी द्वीपों पर नाम मात्र के ही जीव रहते थे. स्वायंभुव मनु के बाद उनके पुत्र प्रियव्रत धरती के राजा बने. राजा प्रियव्रत ने विश्वकर्मा की पुत्री बहिर्ष्मती से विवाह किया था जिनसे आग्नीध्र, यज्ञबाहु, मेधातिथि आदि 10 पुत्र उत्पन्न हुए. प्रियव्रत की दूसरी पत्नी से उत्तम, तामस और रैवत ये 3 पुत्र उत्पन्न हुए, जो अपने नाम वाले मन्वंतरों के अधिपति हुए.

16 November 2021

जानिए विश्व के प्रसिद्ध विश्वविद्यालय नालन्दा, विक्रमशिला और ओदंतपुरी को किसने जलाया

नालंदा विश्वविद्यालय:
 
शिक्षा के मामले में आज भले ही भारत दुनिया के कई देशों से पीछे हो, लेकिन एक समय था, जब हिंदुस्तान शिक्षा का केंद्र हुआ करता था. भारत में ही दुनिया का पहला विश्वविद्यालय खुला था, जिसे नालंदा विश्वविद्यालय के नाम से जाना जाता है. इस विश्वविद्यालय की स्थापना गुप्त शासक कुमारगुप्त प्रथम (450-470) ने की थी. इस विश्वविद्यालय को नौवीं शताब्दी से बारहवीं शताब्दी तक अंतरराष्ट्रीय ख्याति प्राप्त थी, लेकिन अब यह एक खंडहर बनकर रह चुका है, जहां दुनियाभर से लोग घूमने के लिए आते हैं. बिहार के नालंदा में स्थित इस

15 November 2021

भारत के महान राजा चक्रवर्ती सम्राट विक्रमादित्य जिन्होंने अखंड भारत पर राज किया

सम्राट विक्रमादित्य उज्जैन के राजा थे, जो अपने ज्ञान, वीरता और उदारशीलता के लिए प्रसिद्ध थे. सम्राट विक्रमादित्य गर्दभिल्ल वंश के शासक थे इनके पिता का नाम राजा गंधर्वसेन  था. 
नाबोवाहन के पुत्र राजा गंधर्वसेन भी चक्रवर्ती सम्राट थे.  उनके और भी नाम थे जैसे गर्द भिल्ल, गदर्भवेष. गंधर्वसेन के पुत्र विक्रमादित्य और भर्तृहरी थे. विक्रम की माता का नाम सौम्यदर्शना था जिन्हें वीरमती और मदनरेखा भी कहते थे. उनकी एक बहन थी जिसे मैनावती कहते थे. उनके पराक्रम को देखकर ही उन्हें महान सम्राट कहा गया और उनके नाम की उपाधि कुल 14 भारतीय राजाओं को दी गई.

13 November 2021

पद्म पुरस्कार 2021:पद्म पुरस्कार से सम्मानित हुए धरती के योद्धा; किसी ने जंगल उगाए, तो किसी ने फल बेचकर स्कूल बनवाया

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने 8 नवंबर को पद्म पुरस्कार प्रदान किए. कुल 119 लोगों को ये पुरस्कार दिए गए। 10 लोगों को पद्म भूषण, 7 को पद्म विभूषण और 102 लोगों को पद्मश्री से सम्मानित किया गया. सम्मान पाने वाले कुल 119 लोगों में 29 महिलाएं और एक ट्रांसजेडर भी शामिल है. 
पद्म पुरस्कार पाने वालों में शामिल एक्ट्रेस कंगना रनोट, सिंगर अदनान सामी, स्पोर्ट्स पर्सनैलिटी पीवी सिंधु और मेरी कॉम, बिजनेसमैन आनंद महिंद्रा, शास्त्रीय गायक पंडित छन्नूलाल मिश्र उन नामों में आते हैं जिनसे हर कोई वाकिफ है. इनकी उपलब्धियां सबको पता है; लेकिन कल कुछ ऐसे चेहरे और तस्वीरें लोगों के सामने आईं, जिन्हें कल से पहले शायद ही कोई जानता होगा, लेकिन आज ये शक्ति, सम्मान और नए भारत की तस्वीर बन गई हैं.

पाकिस्तानी नौसेना की बढ़ी ताकत, चीन ने Pakistan को सौंपा अत्याधुनिक 054 युद्धपोत

चीन ने हाल ही में पाकिस्तान को पहला टाइप 054 युद्धपोत सौंपा है. ये युद्धपोत उस समझौते के तहत सौंपा गया है जिसके तहत चीन को पाकिस्तानी नौसेना के लिए चार युद्धपोत बनाने हैं. फिलहाल चीन ने जिस युद्धपोत की आपूर्ति पाकिस्‍तान को की है वो इस समझौते के तहत सौंपा गया पहला युद्धपोत है. 
चीन ने पाकिस्तान को एक विध्वंसक युद्धपोत दिया है. इससे पाकिस्तान की नौसेना की ताकत में बड़ा इजाफा होगा. चीन की स्‍थानीय मीडिया के अनुसार इस युद्धपोत का निर्माण चाइना शिपबिल्डिंग कारपोरेशन लिमिटेड (सीएसएसएल) ने किया है. ग्‍लोबल टाइम्‍स की रिपोर्ट के अनुसार चीन ने इस युद्धपोत को एक कमीशन सेरेमनी के दौरान पाकिस्तानी नौसेना को सौंपा है.

National Internet Exchange of India ने 'डिजिटल पेमेंट गेटवे' शुरू किया

नेशनल इंटरनेट एक्सचेंज ऑफ इंडिया ने हाल ही में 'डिजिटल पेमेंट गेटवे' को शुरू किया है. इलेक्ट्रॉनिकी और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय (एमईआईटीवाई) के तहत नेशनल इंटरनेट एक्सचेंज ऑफ इंडिया (एनआईएक्सआई) एक गैर-लाभकारी कंपनी है. पेमेंट गेटवे सेवाओं को शुरू करने के लिए नेशनल इंटरनेट एक्सचेंज ऑफ इंडिया ने पेयू और एनएसडीएल के साथ साझेदारी की है. 
इसका उद्देश्य सभी के लिए इंटरनेट को सुलभ बनाना है. अपने ग्राहकों और साझेदारों की सुविधा के लिए, उपयोग करने में आसानी के उद्देश्य से अपनी सभी ग्राहक उपयोग वाली वेबसाइटों पर पेमेंट गेटवे को एकीकृत कर अपनी तीन व्यावसायिक इकाइयों में डिजिटल भुगतान को सक्षम करके नेशनल इंटरनेट एक्सचेंज ऑफ इंडिया (एनआईएक्सआई) अब डिजिटल हो गया है.

05 November 2021

भारत का राष्ट्रीय प्रतीक अशोक स्तम्भ

आज हम इतिहास के पन्नों से कुछ जानकारी आपसे साझा करेंगे जिसका सीधा संबंध हमसे और हमारे देश से है. 
उत्तर प्रदेश के सारनाथ स्थित अशोक स्तम्भ के सिंहों को 26 जनवरी 1950 को राष्ट्रीय प्रतीक के रूप में मान्यता मिली थी. ये दहाड़ते हुए सिंह धर्म चक्र प्रवर्तन के रूप में दृष्टिमान हैं. बुद्ध ने वर्षावास समाप्ति पर भिक्षुओं को चारों दिशाओं में जाकर लोक कल्याण हेतु ‘बहुजन हिताय, बहुजन सुखाय’ का आदेश दिया था, जो आज सारनाथ के नाम से विश्विविख्यात है. इसलिए यहाँ पर मौर्य साम्राज्य के तीसरे सम्राट व सम्राट चन्द्रगुप्त मौर्य के पौत्र महान चक्रवर्ती सम्राट अशोक ने चारों दिशाओं में गर्जना करते हुए शेरों को बनवाया था.

जानिए ब्राह्मण चणक का अपमान करने पर किस प्रकार हुआ राजा घनानंद का सत्यानाश

चाणक्य भारत के महान अर्थशास्त्री, राजनीति के ज्ञाता मानें जाते हैं. वे बचपन से ही अन्य बालकों से भिन्न थे. उनके तार्किकता का कोई जवाब नहीं था. चाणक्य को बचपन से ही वेद पुराणों में बहुत रूचि थी. 
इतिहास में उनका नाम एक कुशल नेतृत्वकर्ता व बड़े रणनीतिकारों में शामिल है. इनके सर्वगुणसंपन्न होने की ही वजह से ही इनको अनेक नामों से पुकारा जाता है, जिसमें कौटिल्य, विष्णुगुप्त, वात्स्यान, मल्ल्नाग व् अन्य नाम शामिल हैं. चाणक्य का जन्म 350 ई.पू. में तक्षशिला में हुआ था. उनके पिता चणक मुनि एक महान शिक्षक थे. इनके पिता ने बचपन में उनका नाम कौटिल्य रखा था. एक शिक्षक होने के नाते चणक मुनि अपने राज्य की रक्षा के लिए बेहद चिंतित थे.

02 November 2021

राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस एंव धनवंतरी जयंती

आयुष मंत्रालय प्रत्‍येक वर्ष धनवंतरी जयंती के अवसर पर आयुर्वेद दिवस मनाता है. इस बार आयुर्वेद दिवस 02 नवंबर 2021 को मनाया गया. राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस (National Ayurveda Day) हर साल धन्वंतरी जयंती या धनतेरस (Dhanteras) के दिन मनाया जाता है. राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस (National Ayurveda Day) की शुरुआत साल 2016 में हुई थी. पहला आयुर्वेद दिवस (Ayurveda Day) 28 अक्टूबर 2016 को धनतेरस के दिन मनाया गया था. बता दें कि आयुर्वेद सालों से हमारे अच्छे स्वास्थ्य में अपनी भूमिका निभाता आ रहा है. ऐसे में आयुर्वेद को बढ़ावा देने के लिए राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस मनाया जाता है. राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस (National Ayurveda Day) हर साल धनतेरस के दिन मनाया जाता है.

29 October 2021

बख्तियारपुर नाम नहीं एक कलंक है बिहार के माथे पर

बख्तियारपुर बिहार का एक शहर है जो पटना जिले में पड़ता है. इस शहर को तुर्क आक्रमणकारी बख्तियार खिलजी ने बसाया था. 
उसका पूरा नाम इख्तियारुद्दीन मुहम्मद बिन बख्तियार खिलजी था. बिहार का वह मुगल शासक था. उस समय दिल्ली के बादशाह कुतुबुद्दीन एबक ने यूपी के मिर्जापुर की जिम्मेदारी बख्तियार खिलजी को दिया था. यूपी से बिहार और बंगाल नजदीक होने के कारन उसका नजर बिहार और बंगाल पर पड़ा और वह पुरे बिहार पर अधिकार कर लिया. एक समय बख्तियार खिलजी बहुत ज्यादा बीमार पड़

भारत के महान राजा पृथ्वीराज चौहान जिन्होंने मो गौरी को 17 वार पराजित किया

भारत के इतिहास का एक गौरवपूर्ण नाम है पृथ्वीराज चौहान. यह क्षत्रिय महारथी जितना परमवीर था उतना ही दयालु और क्षमाशील था, जिसने अपने पराक्रम से हिन्दुस्तान के गौरव में बेहिसाब इजाफा किया लेकिन हाथ आए शत्रु के साथ दयी करने की भूल भी कर दी. शत्रु पर दया की ये भूल हिन्दुस्तान के इतिहास पर भारी पड़ गई. वो योद्धा और कोई नहीं बल्कि दिल्ली की गद्दी के आखिरी हिन्दू सम्राट पृथ्वीराज चौहान हैं. पृथ्वीराज तृतीय को देश पृथ्वीराज चौहान के नाम से जानता है.

देखिए किस प्रकार मेवाड़ के राजा महाराणा प्रताप ने अकबर को नानी याद दिलाई

आज हम बात कर रहे हैं वीरों की भूमि राजस्थान में जन्मे सोलहवीं शताब्दी के महान हिंदू राजा महाराणा प्रताप की, जिन्होंने मुगल शासक अकबर को कई बार रणभूमि में टक्कर द. अंग्रेजी कैलेंडर के हिसाब से महाराणा प्रताप का जन्म 9 मई, 1540 को कुंभलगढ़ में हुआ था.
 उन्होंने अपनी मां से ही युद्ध कौशल सीखा था. राजा महाराणा प्रताप के भाले का वजन कुल 81 किलो था, साथ ही उनके छाती का कवच 72 किलो का था. भाला, कवच, ढाल और दो तलवारों के साथ उनके अस्त्र और शस्त्रों का वजन 208 किलो था.

भारत के महान वीर योद्धा पोरस जिन्होंने विश्व विजेता सिकंदर को नानी याद दिला दिया

सिकंदर (356 ईपू से 323 ईपू) मेसेडोनिया. का ग्रीक प्रशासक था. वह एलेक्ज़ेंडर तृतीय तथा एलेक्ज़ेंडर मेसेडोनियन नाम से भी जाना जाता है. 
सिकंदर अपने पिता की मृत्यु के पश्चात अपने सौतेले व चचेरे भाइयों का कत्ल करने के बाद यूनान के मेसेडोनिया के सिन्हासन पर बैठा था. अपनी महत्वाकांक्षा के कारण वह विश्व विजय को निकला. उसकी खास दुश्मनी ईरानियों से थी. सिकंदर ने ईरान के पारसी राजा दारा को पराजित कर दिया और विश्व विजेता कहलाने लगा. यहीं से उसकी भूख बड़ गई. इतिहास में वह कुशल और यशस्वी सेनापतियों में से एक माना गया है. अपनी मृत्यु तक वह उन सभी भूमि

22 October 2021

NPCI ने कार्ड टोकनाइजेशन प्लेटफॉर्म 'NTS' लॉन्च किया

ग्राहकों के वित्तीय डेटा को सुरक्षित करने के लिए भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) द्वारा हाल ही में जारी दिशानिर्देशों के अनुरूप, नेशनल पेमेन्टस कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (एनपीसीआई) ने बुधवार को रुपे कार्ड के टोकन के विकल्प के रूप में समर्थन करने के लिए व्यापारियों के साथ कार्ड विवरण संग्रहित करना एनपीसीआई टोकनाइजेशन (एनटीएस) लॉन्च किया है. 
एनटीएस ग्राहकों की सुरक्षा को और बढ़ाएगा और उपभोक्ताओं को खरीदारी

प्रथम अश्वेत अमेरिकी विदेश मंत्री कॉलिन पॉवेल का निधन

अमेरिका के पूर्व विदेश मंत्री कॉलिन पॉवेल (Colin Powell) का सोमवार को कोरोना के कारण निधन हो गया है. वह 84 वर्ष के थे. वे 2001 में राज्य सचिव के रूप में राष्ट्रपति जॉर्ज डब्ल्यू. बुश (George W. Bush) के प्रशासन में शामिल हुए. वह विश्व मंच पर अमेरिकी सरकार का प्रतिनिधित्व करने वाले पहले अश्वेत व्यक्ति थे. इसके अलावा वह ज्वाइंट चीफ ऑफ स्टाफ के चेयरमैन भी रह चुके थे. 
बता दें की ज्वाइंट चीफ्स ऑफ स्टाफ (Joint Chiefs Of Staff) के चेयरमैन रहे कॉलिन पॉवेल को बुश प्रशासन के दौरान अमेरिकी विदेश मंत्री बनने का अवसर मिला था. विदेश मंत्री के पद पर रहते हुए उन्होंने अमेरिका के हित में कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए. 

19 October 2021

ईद-ए-मिलाद: का जन्मदिन

मुस्लिम धर्म के प्रवर्तक हजरत मोहम्मद माने जाते हैं, जिन्होंने अपनी धार्मिक सहिष्णुता एवं श्रेष्ठ चारित्रिक गुणों से इस धर्म को एक महान् धर्म के रूप में प्रतिष्ठित किया था. मानवीय आधार पर इस धर्म की स्थापना करके उन्होंने आपसी सदभाव और मैत्री का सन्देश दिया था. सभी मनुष्यो को ईश्वर की सन्तान बताते हुए उन्होंने धार्मिक सदभाव व एकता का पाठ पढ़ाया. 
उनका जन्म व मृत्यु 571-632 ईसा के बीच मानी जाती है. अरब देश के काबा नामक शहर में हजरत मोहम्मद साहब का जन्म हुआ था. उनके पिता हजरत अब्दुल्लाह और माता बीबी आमना थीं. ये लोग कौरेश नाम के घरानों से थे. जब

18 October 2021

WHO ने कोरोना वायरस की उत्पत्ति की पहचान के लिए बनाया वैज्ञानिक सलाहकार समूह

13 अक्टूबर, 2021 को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने नोवेल पैथोजेन्स (SAGO) की उत्पत्ति पर अपने नये वैज्ञानिक सलाहकार समूह के लिए 26 विशेषज्ञों के नाम दिए हैं. विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा गठित इस समूह में ऐसे कई प्रतिनिधि शामिल हैं जिन्होंने SARS-CoV-2 कोरोना वायरस के स्रोत की जांच करने के लिए चीन के वुहान में संबद्ध मिशन पर काम किया है. 
WHO के एक बयान में 26 प्रस्तावित सदस्यों को सार्वजनिक परामर्श की दो सप्ताह की अवधि से पहले नामित किया है, जिसमें थिया फिशर, मैरियन कोपमैन, हंग गुयेन और चीनी पशु स्वास्थ्य विशेषज्ञ यांग युंगुई शामिल हैं, जिन्होंने वर्ष, 2021 में हुई इससे पहले की संयुक्त जांच में भी भाग लिया था.

ग्लोबल हंगर इंडेक्स में भारत 116 देशों में 101वें स्थान पर

ग्लोबल हंगर इंडेक्स ने भारत को कुल 116 देशों में से 101वें स्थान पर रखा है. भारत भी उन 31 देशों में शामिल है जहां भूख की समस्या को काफी गंभीर रूप में पहचाना गया है. पिछले साल जारी ग्लोबल हंगर इंडेक्स (GHI) में कुल 107 देशों में से भारत 94वें स्थान पर था. 
इस ग्लोबल हंगर इंडेक्स के मुताबिक, केवल 15 देशों की स्थिति ही भारत से बदतर है. इनमें पापुआ न्यू गिनी (102), अफगानिस्तान (103), नाइजीरिया (103), कांगो (105), मोजाम्बिक (106), सिएरा लियोन (106), तिमोर-लेस्ते (108), हैती (109), लाइबेरिया (110)), मेडागास्कर (111), कांगो लोकतांत्रिक गणराज्य (112), चाड (113), मध्य अफ्रीकी गणराज्य (114), यमन (115) और सोमालिया (116) के नाम शामिल हैं.

08 October 2021

RBI Monetary Policy: RBI ने ब्याज दरों में नहीं किया कोई बदलाव

भारतीय रिज़र्व बैंक (RBI) ने 08 अक्टूबर 2021 को मौद्रिक नीति समिति (MPC) की बैठक में रेपो रेट में कोई भी बदलाव नहीं करने का फैसला लिया है. केंद्रीय बैंक ने लगातार 8वीं बार नीतिगत ब्याज दरों में कोई बदलाव नहीं किया है. उन्होंने कहा कि समिति ने सर्वसम्मति से नीतिगत दरों को यथावत रखने का फैसला किया है. 
आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने 08 अक्टूबर को तीन दिवसीय बैठक के बाद कहा कि आरबीआई ने रेपो रेट और रिवर्स रेपो रेट में कोई बदलाव नहीं किया गया है. बता दें कि रिजर्व बैंक के गवर्नर शक्तिकांत दास की अगुवाई वाली मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) ने आखिरी बार 22 मई 2020 को रेपो दर में बदलाव किया था.

Nobel Peace Prize 2021: मारिया रेसा और दिमित्री मुराटोव को मिला नोबेल शांति पुरस्कार

विश्वभर के अलग-अलग क्षेत्रों में बेहतरीन काम के लिए नोबेल पुरस्कारों की घोषणा की जा रही है. फिलीपीन्‍स की पत्रकार मारिया रेसा और रूस के दमित्री मुराटोव को साल 2021 के लिए शांति का नोबेल पुरस्‍कार दिया गया है. नोबेल पुरस्कार हर साल 10 दिसंबर को प्रदान किए जाते हैं. 
नोबेल कमिटी ने कहा कि अभिव्‍यक्ति की आजादी के लिए दोनों के प्रयासों को देखते हुए यह पुरस्‍कार दिया गया है. अभिव्‍यक्ति की आजादी किसी लोकतंत्र के लिए एक महत्‍वपूर्ण पूर्व शर्त है. नोबेल कमिटी ने दोनों के प्रयासों की सराहना की. बता दें कि कुल 329 उम्मीदवारों में से मारिया रेसा और दिमित्री मुराटोव को नोबेल शांति पुरस्कार 2021 के लिए चुना गया है. नोबेल शांति पुरस्कार जीतने वाले को अब 1.1 मिलियन डॉलर की इनामी राशि दी जाएगी.

इस साल भारत की 28 कंपनियां हुईं यूनिकॉर्न क्लब में शामिल

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने बुधवार को यह कहा है कि, भारतीय अर्थव्यवस्था में इस साल सरकार द्वारा शुरू किए गए सुधारों की एक श्रृंखला के आधार पर 28 यूनिकॉर्न कंपनियां या स्टार्टअप्स शामिल हुए हैं जिनका मूल्य 01 बिलियन डॉलर से अधिक है. 
भारतीय निजी इक्विटी और वेंचर कैपिटल एसोसिएशन (IVCA) द्वारा आयोजित एक आभासी सम्मेलन को संबोधित करते हुए, वित्त मंत्री, भारत सरकार ने यह कहा है कि, भारतीय अर्थव्यवस्था ने पिछले दो दशकों में स्टार्टअप कंपनियों में अभूतपूर्व वृद्धि देखी है.

13 September 2021

उत्तराखंड के राज्यपाल बनाए गए गुरमीत सिंह, बनवारीलाल पुरोहित पंजाब के राज्यपाल नियुक्त

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्या का इस्तीफा 09 सितंबर 2021 को स्वीकार कर लिया. लेफ्टिनेंट जनरल (सेवानिवृत्त) गुरमीत सिंह को उत्तराखंड के गवर्नर की कमान सौंप दी है. लेफ्टिनेंट जनरल सिंह राज्य के आठवें राज्यपाल होंगे. प्रथम राज्यपाल सुरजीत सिंह बरनाला के बाद लेफ्टिनेंट जनरल सिंह प्रदेश के दसूरे सिख राज्यपाल हैं. 
गौरतलब है कि बेबी रानी मौर्य ने 08 सितंबर 2021 को अपना इस्तीफा राष्ट्रपति को सौंप दिया था. इसके बाद से ही नए राज्यपाल के नाम को लेकर चर्चाएं हो रही थीं. बेबी रानी मौर्य ने 28 अगस्त 2018 को उत्तराखंड के राज्यपाल की जिम्मेदारी संभाली थी. 3 साल से अधिक का समय गुजारने के बाद राज्यपाल बेबी रानी मौर्य अपने पद से इस्तीफा दिया.

उत्तर कोरिया ने लंबी दूरी की क्रूज मिसाइल का परीक्षण किया

उत्तर कोरिया ने नई विकसित लंबी दूरी की क्रूज मिसाइल का सफल परीक्षण किया है. अमेरिका से तनाव के बीच उत्तर कोरिया का तानाशाह किम जोंग उन ने लंबी दूरी तक मार करने वाली क्रूज मिसाइल का परीक्षण कर अन्य बड़े देशों को अपनी ताकत का एहसास करा दिया है. इस परीक्षण की जानकारी उत्तर कोरिया की सरकारी मीडिया ने दी है. 
बता दें कि ये परीक्षण ऐसे समय में किए गए हैं, जब अमेरिका के साथ चल रहे उत्तरी कोरिया के परमाणु निरस्त्रीकरण को लेकर जाती गतिरोध खत्म होने की भी संभावना नजर नहीं आ रही है. उत्तर कोरिया की खराब रणनीतिक व्यवस्था और बढ़ रही भुखमरी के बीच हथियारों को लेकर उत्तर कोरिया की भूख बढ़ती जा रही है.

09 September 2021

विश्व साक्षरता दिवस

पूरे विश्व में साक्षरता दिवस 08 सितंबर को मनाया जाता है. विश्व में शिक्षा के महत्व को दर्शाने और निरक्षरता को समाप्त करने के उद्देश्य से प्रत्येक साल 08 सितंबर को विश्व साक्षरता दिवस मनाया जाता है. इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य समाज में लोगों के प्रति शिक्षा को प्राथमिकता देने को बढ़ावा देना है. 
विश्व साक्षरता दिवस के दिन लोग एक-दूसरे को इस खास दिन की बधाई देते हैं. इस दिन शिक्षा और उसकी भूमिका के प्रति लोगों को जागरूक किया जाता है कि कैसे यह व्यक्ति, समुदाय और समाज को लाभान्वित कर सकता है. यह दिवस बदलती शिक्षा के दौर में शिक्षकों की भूमिका को सबसे आगे लाने की कोशिश करता है.

तालिबान ने अफगानिस्तान में कार्यवाहक सरकार का ऐलान किया

तालिबान ने अफगानिस्तान में नई सरकार की घोषणा कर दी है, लेकिन ये एक "कार्यवाहक सरकार" होगी. मुल्ला हसन अखुंद अफगानिस्तान में तालिबान की नई सरकार का नेतृत्व करेंगे. तालिबान के प्रवक्ता ज़बीउल्लाह मुजाहिद ने 07 सितंबर को शाम प्रेस कॉन्फ्रेंस कर नई कार्यवाहक सरकार की घोषणा की. 
तालिबान के प्रवक्ता ज़बीउल्लाह मुजाहिद ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि तालिबान के संस्थापकों में से एक मुल्ला मोहम्मद हसन अखुंद सरकार के मुखिया यानी प्रधानमंत्री होंगे और मुल्ला अब्दुल ग़नी बरादर उप प्रधानमंत्री होंगे. मुल्ला अब्दुल ग़नी बरादर तालिबान के सह संस्थापक हैं.

उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने दिया इस्तीफा

उत्तराखंड की राज्यपाल बेबी रानी मौर्य ने 08 सितंबर 2021 को पद से इस्तीफा दे दिया है. राजभवन के एक अधिकारी ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि राज्यपाल ने अपना इस्तीफा राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को भेज दिया है. उन्होंने बताया कि राज्यपाल ने व्यक्तिगत कारणों के चलते इस्तीफा दिया है. 
बेबी रानी मौर्य दो दिन पहले नई दिल्ली में केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह से मिलीं थीं. बेबी रानी के इस्तीफे के बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि उनको यूपी में बीजेपी कोई बड़ी जिम्मेदारी दे सकती है. इस इस्तीफे के साथ ही राज्य का आठवें राज्यपाल को लेकर इंतजार बढ़ गया है. उत्तर प्रदेश में अगले वर्ष विधानसभा चुनाव होने हैं. कयास ये भी हैं कि उत्तर प्रदेश की सियासत में वह सक्रिय भूमिका निभा सकती हैं. भाजपा चुनाव के मद्देनजर उन्हें नई जिम्मेदारी सौंप सकती है.

17 August 2021

अफगानिस्तान पर फिर तालिबान का कब्जा, अफगान राष्ट्रपति अशरफ गनी ने छोड़ा देश

तालिबान ने फिर अफगानिस्तान पर कब्जा जमा लिया है. तालिबान के आतंकियों ने काबुल की घेराबंदी कर ली और जब काबुल में घुसे अफगानिस्तान की फौज ने सरेंडर कर दिया. इसके बाद सरकार और तालिबान के प्रतिनिधियों के बीच बातचीत हुई और राष्ट्रपति अशरफ गनी देश छोड़कर चले गए. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, अफगानिस्तान के राष्ट्रपति अशरफ गनी देश से ताजिकिस्तान के लिए रवाना हो गए हैं. 
राष्ट्रपति अशरफ गनी के साथ एनएसए हमदुल्लाह मोहिब समेत कई दूसरे नेताओं ने भी देश छोड़ दिया है. राष्ट्रपति अशरफ गनी के देश छोड़ने के कुछ ही घंटों बाद तालिबान ने काबुल में अफगान राष्ट्रपति भवन पर कब्जा कर लिया है. तालिबान ने यह भी कहा है कि अफगानिस्तान में सत्ता हस्तांतरण के लिए कोई भी अंतरिम सरकार नहीं बनाई जाएगी.

10 August 2021

प्रसिद्ध अभिनेता अनुपम श्याम का निधन

छोटे एवं बड़े पर्दे के मशहूर कलाकार अनुपम श्याम  का 08 अगस्त 2021 को निधन हो गया है. वे 63 साल के थे. उनके शरीर के कई अंगों ने काम करना बंद कर दिया था. अनुपम श्याम ओझा पिछले साल से किडनी की बीमारी से जूझ रहे थे. अनुपम श्याम आईसीयू में थे और उन्हें वेंटिलेटर पर रखा गया था. 
दिग्गज अभिनेता के निधन पर टेलीविजल इंडस्ट्री में शोक की लहर है. अनुपम श्याम के ठीक होने के बाद उनकी नियमित रूप से डायलिसिस करवाई जा रही थी. इस साल यानी 2021 में टीवी सीरियल 'मन की आवाज प्रतिज्ञा' के सीजन 2 लॉन्च होने पर वह काम पर वापस आ गए थे.

भारतीय रिजर्व बैंक ने मौद्रिक नीति समीक्षा की घोषणा की

भारतीय रिजर्व बैंक ने  द्विमासिक मौद्रिक नीति समीक्षा में प्रमुख नीतिगत दर रेपो में कोई बदलाव नहीं किया और इसे 4 प्रतिशत पर बरकरार रखा. वहीं केन्द्रीय बैंक ने चालू वित्त वर्ष के दौरान अर्थव्यवस्था में 7.5 प्रतिशत गिरावट आने का नया अनुमान व्यक्त किया है. इसके साथ ही केंद्रीय बैंक ने आर्थिक वृद्धि को गति देने के लिये उदार रुख को कायम रखते हुए कहा है कि कोविड-19 से प्रभावित अर्थव्यवस्था को गति देने के लिये वह आगे भी नीतिगत दर में कटौती समेत हर संभव कदम उठाएगा.

मौद्रिक नीति समिति (एमपीसी) की निर्णय की जानकारी देते हुए आरबीआई के

04 August 2021

पीएम मोदी ने डिजिटल भुगतान समाधान e-RUPI को लॉन्च किया

भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 02 अगस्त, 2021 को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से डिजिटल भुगतान समाधान को बढ़ावा देने वाला एक इलेक्ट्रॉनिक वाउचर e-RUPI लॉन्च किया है. 
प्रधानमंत्री ने यह कहा कि, e-RUPI इस बात का उदाहरण है कि, कैसे भारत 21वीं सदी में उन्नत तकनीक की मदद से आगे बढ़ रहा है और लोगों को आपस में जोड़ रहा है. उन्होंने यह भी कहा कि, उन्हें खुशी है कि इसकी शुरुआत उस साल हुई है, जब भारत अपनी आजादी की 75वीं वर्षगांठ मना रहा है.

प्रधानमंत्री मोदी ने आगे यह कहा कि, इस e-RUPI का उपयोग न केवल सरकार द्वारा बल्कि किसी भी ऐसे गैर-सरकारी संगठन द्वारा भी किया जा सकता है जो शिक्षा या चिकित्सा उपचार में किसी

24 July 2021

गुरु पूर्णिमा

गुरू पूर्णिमा उन सभी आध्यात्मिक और अकादमिक गुरूजनों को समर्पित परम्परा है जिन्होंने कर्म योग आधारित व्यक्तित्व विकास और प्रबुद्ध करने, बहुत कम अथवा बिना किसी मौद्रिक खर्चे के अपनी बुद्धिमता को साझा करने के लिए तैयार हों. इसको भारत, नेपाल और भूटान में हिन्दू, जैन और बोद्ध धर्म के अनुयायी उत्सव के रूप में मनाते हैं. यह पर्व हिन्दू, बोद्ध और जैन अपने आध्यात्मिक शिक्षकों /अधिनायकों के सम्मान और उन्हें अपनी कृतज्ञता दिखाने के रूप में मनाया जाता है. यह पर्व हिन्दू पंचांग के हिन्दू माह आषाढ़ की पूर्णिमा (जून-जुलाई) मनाया जाता है. इस उत्सव को महात्मा गांधी ने अपने आध्यात्मिक गुरू श्रीमद राजचन्द्र सम्मान देने के लिए पुनर्जीवित किया. ऐसा भी माना जाता है कि व्यास पूर्णिमा वेदव्यास के जन्मदिन के रूप में मनाया जाता है.

भारत की सबसे बड़ी तेल कंपनी IOC मथुरा रिफाइनरी में देश का पहला 'ग्रीन हाइड्रोजन' प्लांट बनाएगा स्थापित करेगा

भारत की सबसे बड़ी तेल कंपनी इंडियन ऑयल कॉर्पोरेशन (IOC) अपनी मथुरा रिफाइनरी में देश का पहला 'ग्रीन हाइड्रोजन' प्लांट बनाएगा. इस कदम का उद्देश्य भविष्य में तेल और ऊर्जा के स्वच्छ रूपों की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए तैयार करना है. 
इंडियन ऑयल कॉरपोरेशन कार्बन कैप्चर, यूटिलाइजेशन, और स्टोरेज टेक्नोलॉजी-स्पेस पर अनुसंधान को आगे बढ़ा रहा है, जहां वह अपने पेरिस जलवायु लक्ष्यों को पूरा करने के लिए वैश्विक सहयोग का प्रयास कर रहा है.

20 July 2021

नेपाल के नए प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा ने विश्वास मत जीता

नेपाल के नवनियुक्त प्रधानमंत्री शेर बहादुर देउबा ने 18 जुलाई 2021 को नेपाली संसद का विश्वास मत हासिल कर लिया. उन्हें 275 सदस्यीय प्रतिनिधि सभा में 165 सदस्यों का समर्थन मिला. देउबा को नेपाली सुप्रीम कोर्ट ने प्रधानमंत्री नियुक्त किया था और एक माह में विश्वास मत साबित करने को कहा था. 
83 सांसदों ने नवगठित सरकार के विरोध में मतदान किया. इस तरह सरकार ने आसानी से संसद में अपना बहुमत साबित कर लिया. संसद की प्रतिनिधि सभा में 275 सदस्य हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देउबा को विश्वास मत हासिल करने पर बधाई दी है.

15 July 2021

शेर बहादुर देउबा ने ली नेपाल के प्रधानमंत्री पद की शपथ

शेर बहादुर देउबा ने नेपाल के नए प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ ले ली है. नेपाली कांग्रेस के अध्यक्ष शेर बहादुर देउबा 13 जुलाई 2021 को पाँचवीं बार नेपाल के प्रधानमंत्री बने हैं. राष्ट्रपति विद्या देवी भंडारी ने संविधान के अनुच्छेद 76(5) के तहत उन्हें प्रधानमंत्री नियुक्त किया. 
इससे पहले नेपाल के कार्यवाहक प्रधानमंत्री केपी शर्मा ओली ने प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा दिया. यह इस्तीफा नेपाल सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद दिया गया है. इस्तीफे के बाद केपी ओली ने कहा कि हमारी पार्टी सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करती है. इसलिए मैंने प्रधानमंत्री पद से इस्तीफा दे दिया है. इससे पहले शेर बहादुर देउबा चार बार- पहली बार सितंबर 1995- मार्च 1997, दूसरी बार जुलाई 2001- अक्टूबर 2002, तीसरी बार जून 2004- फरवरी 2005 और चौथी बार जून 2017- फरवरी 2018 तक प्रधानमंत्री रह चुके हैं.

केंद्र सरकार ने केंद्रीय कर्मचारियों को दिया बड़ा तोहफा, महंगाई भत्ता किया 28 फीसदी

केंद्र सरकार ने 14 जुलाई 2021 को केंद्रीय कर्मचारियों को राहत देते हुए, महंगाई भत्ते को 17 प्रतिशत से बढ़ाकर 28 प्रतिशत करने का घोषणा किया. कैबिनेट की बैठक के बाद केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने कहा कि केंद्र सरकार के कर्मचारियों और पेंशनधारकों के लिए महंगाई भत्ते (DA) को 17 प्रतिशत से बढ़ाकर 28 प्रतिशत किया जा रहा है. यह 1 जुलाई 2021 से लागू होगा. 
इसके साथ केंद्रीय कैबिनेट ने केंद्र सरकार के कर्मचारियों और पेंशधारकों के लिए महंगाई भत्ते (DA) और महंगाई राहत (DR) को 1 जुलाई 2021 से बहाल करने का फैसला किया है. केंद्रीय मंत्री अनुराग ठाकुर ने बताया कि कोविड महामारी के कारण डीए में बढ़ोत्तरी पर रोक लगाई गई थी.

12 July 2021

डेनमार्क में बना दुनिया का सबसे ऊंचा रेत का महल

डेनमार्क में बने दुनिया के सबसे ऊंचे रेत के महल ने अब नया गिनीज वर्ल्ड रिकॉर्ड बनाया है. यह 21.6 मीटर ऊंचा (69.4 फीट) का रेत-महल वर्ष, 2019 में जर्मनी में बने एक रेत महल से 3.5 मीटर लंबा है, जिसने 17.66 मीटर ऊंचाई का पिछला विश्व रिकॉर्ड अपने नाम दर्ज किया था. यह रेत का महल ब्लोखस के छोटे से समुद्र तटीय शहर में 4,860 टन रेत से बनाया गया है. यह शहर डेनमार्क के नॉर्थ जटलैंड में स्थित है. इस शहर का नाम मूल रूप से हुन हवार था. कथित तौर पर, इस शहर में प्रति वर्ष लगभग 01 मिलियन आगंतुक आते हैं.

डेनमार्क में दुनिया का सबसे ऊंचा रेत महल 21.6 मीटर ऊंचा (69.4 फीट) है और यह महल 4,860 टन रेत से बना है. यह रेत का महल वर्ष, 2019 में जर्मनी में बने रेत-महल की तुलना में 3.5 मीटर ऊंचा है.
 डच कलाकार विल्फ्रेड स्टिजर के मार्गदर्शन में, दुनिया के 30 सर्वश्रेष्ठ रेत मूर्तिकार दुनिया के इस सबसे ऊंचे रेत के महल के निर्माण कार्य में संलग्न थे. स्टिजर चाहते थे कि, दुनिया भर में कोरोना वायरस की शक्ति का प्रतिनिधित्व करने के उद्देश्य से इस रेत के महल का निर्माण किया जाए. इसलिए, उन्होंने इस रेत-महल के ऊपर एक मुकुट रखा है.

05 July 2021

दक्षिण अफ्रीका के पूर्व राष्ट्रपति जैकब जुमा को 15 महीने जेल की सजा

दक्षिण अफ्रीका के उच्चतम न्यायालय ने देश के पूर्व राष्ट्रपति जैकब जुमा को अदालत की अवमानना के लिए 29 मई 2021 को 15 महीने कैद की सजा सुनाई है. पिछले वर्ष नवंबर में स्टेट कैप्चर में जांच आयोग के समक्ष सुनवाई का बहिष्कार करने और फिर इसमें शामिल होने से इंकार करने के लिए उन्हें सजा सुनाई गई. 
उनको अदालत की अवमानना में यह सजा सुनाई गई है. जैकब जुमा 2009 से 2018 तक दक्षिण अफ्रीका के राष्ट्रपति रहे थे. उनकी जोंडो कमीशन के द्वारा जांच की जा रही है. सजा सुनाने के दौरान जुमा अदालत में उपस्थित नहीं थे.

17 June 2021

भारतवंशी सत्या नडेला बने माइक्रोसॉफ्ट के चेयरमैन

सॉफ्टवेयर बनाने वाली दुनिया की सबसे बड़ी कंपनी माइक्रोसॉफ्ट ने सत्या नडेला को चेयरमैन नियुक्त किया है. भारतीय मूल के नडेला पिछले सात साल से कंपनी के सीईओ हैं. उनके नेतृत्व में कंपनी ने नई बुलंदियों को छुआ है. 
सत्या नडेला अब जॉन थॉमसन की जगह लेंगे जो एक बार फिर लीड इंडिपेंडेंट डायरेक्टर (Lead Independent Director) की भूमिका में वापस लौटेंगे. जॉन थॉमसन को साल 2014 में चेयरमैन बनाया गया था. वे उससे पहले कंपनी के बोर्ड में लीड इंडिपेंडेंट डायरेक्टर थे. नडेला कंपनी के तीसरे सीईओ हैं और कंपनी के इतिहास में तीसरे

15 June 2021

विश्व रक्तदाता दिवस

पूरी दुनिया में 14 जून 2021 को विश्व रक्तदान दिवस मनाया जा रहा है. इस दिवस का उद्देश्य सुरक्षित रक्त उत्पादों की आवश्यकता के बारे में जागरूकता बढ़ाना और रक्तदाताओं के सुरक्षित जीवन रक्षक रक्त के दान करने हेतु उन्हें प्रोत्साहित करते हुए आभार व्यक्त करना है. 
भारत विश्व की सबसे बड़ी आबादी वाला देश होने के बावजूद रक्तदान में काफी पीछे है. रक्त की कमी को खत्म करने के लिए विश्व भर में रक्तदान दिवस मनाया जा रहा है. इसका मुख्य उद्देश्य रक्तदान को प्रोत्साहित करना और उससे जुड़ी भ्रांतियों को दूर करना है.

हार्ड-राइट टेक करोड़पति नफ्ताली बेनेट बने इज़राइल के नए प्रधानमंत्री

13 जून, 2021 को संसद द्वारा एक नई सरकार को मंजूरी देने के बाद, एक करोड़पति पूर्व तकनीकी उद्यमी, जिन्होंने कट्टर धार्मिक-राष्ट्रवादी बयानबाजी के साथ राजनीति में शोहरत हासिल की है, को इज़राइल के नए प्रधान मंत्री के तौर पर चुना गया है. 
नफ़्ताली बेनेट खुले तौर पर धार्मिक जीवन शैली का नेतृत्व करने वाले इज़राइल के पहले प्रधानमंत्री होंगे और धार्मिक यहूदी पुरुषों द्वारा पहनी जाने वाली छोटी टोपी ‘किप्पा’ का समर्थन करने वाले पहले व्यक्ति होंगे.

10 June 2021

भारत की GDP वृद्धि दर 2021 में 8.3 प्रतिशत रहेगी: विश्व बैंक

विश्व बैंक ने साल 2021 के लिए भारत की जीडीपी ग्रोथ का अनुमान जारी किया है. विश्व बैंक ने कहा है कि साल 2021 में भारतीय अर्थव्यवस्था में 8.3 प्रतिशत की विकास दर रहने का अनुमान है. इससे पहले विश्व बैंक ने कहा था कि वित्त वर्ष 2021-22 में भारतीय अर्थव्यवस्था 10.1 प्रतिशत की दर से ग्रोथ करेगी. 
विश्व बैंक ने कहा कि भारत में काफी अधिक कोरोना वायरस संक्रमण के मामले दर्ज हुए, जिसका असर अर्थव्यवस्था पर भी पड़ा है. वैश्विक अर्थव्यवस्था के बारे में विश्व बैंक ने कहा कि साल 2021 में वैश्विक अर्थव्यवस्था के 5.6 प्रतिशत की दर से ग्रोथ करने का अनुमान है. 

भारत के MSME क्षेत्र के लिए विश्व बैंक ने 500 मिलियन अमरीकी डालर किये मंजूर

विश्व बैंक के कार्यकारी निदेशक मंडल ने भारत के MSME क्षेत्र को बढ़ावा देने के लिए इस देश की राष्ट्रव्यापी पहल का समर्थन करने के लिए 500 मिलियन डॉलर के कार्यक्रम को मंजूरी दे दी है, जो कोरोना वायरस संकट से काफी प्रभावित हुआ है. 
04 जून, 2021 को जारी किये गये एक बयान के अनुसार, यह कार्यक्रम भारत के 5,55,000 MSME के प्रदर्शन में सुधार का लक्ष्य रखता है. भारत सरकार के 3.4 बिलियन अमरीकी डालर के MSME प्रतिस्पर्धात्मकता-ए पोस्ट-कोविड रेजिलिएशन एंड रिकवरी प्रोग्राम (MCRRP) के हिस्से के रूप में, 15.5 बिलियन अमरीकी डालर के वित्तपोषण को जुटाने की उम्मीद है.

उत्तर प्रदेश कैडर के सेवानिवृत आईएएस अधिकारी अनूप चंद्र पांडेय चुनाव आयुक्त नियुक्त

उत्तर प्रदेश कैडर के 
सेवानिवृत आईएएस अफसर अनूप चंद्र पांडेय को 08 जून 2021 को नया चुनाव आयुक्त नियुक्त किया गया है. कानून मंत्रालय के विधायी विभाग ने कहा कि राष्ट्रपति ने 1984 बैच के सेवानिवृत्त भारतीय प्रशासनिक सेवा (आईएएस) के अधिकारी अनूप चंद्र पांडेय को निर्वाचन आयुक्त नियुक्त किया है. मुख्य निर्वाचन आयुक्त (सीईसी) के रूप में सुनील अरोड़ा का कार्यकाल 12 अप्रैल 2021 को पूरा हो गया था. इसके बाद से निर्वाचन आयुक्त का एक पद खाली था. सुशील चंद्रा सीईसी हैं, जबकि राजीव कुमार अन्य निर्वाचन आयुक्त हैं.

अनूप चंद्र पांडेय का जन्म 15 फरवरी 1959 को पंजाब के चंडीगढ़ में हुआ था.

जम्मू-कश्मीर के ‘वेयान’ बना 100 प्रतिशत वयस्क आबादी का टीकाकरण करने वाला भारत का पहला गांव

जम्मू-कश्मीर के बांदीपोरा जिले का वेयान गांव (Weyan Village) देश का पहला ऐसा गांव बन गया है, जहां सभी वयस्कों को कोविड-19 टीके की खुराक दी जा चुकी है. इस गांव के 18 साल से अधिक आयु के सभी लोगों को वैक्सीन लग चुकी है. इस तरह से यह देश का पहला गांव है, जहां 100 प्रतिशत टीकाकरण हो चुका है. 
इस गांव में टीकाकरण के लक्ष्य को हासिल करने के लिए जहां ग्रामीणों ने जागरुकता दिखाई है तो वहीं स्वास्थ्य कर्मियों ने भी कड़ी मशक्कत की है. वेयान गांव बांदीपोरा जिला मुख्यालय से केवल 28 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है, लेकिन वहां जाने के लिए स्वास्थ्य कर्मियों को लगभग 18 किलोमीटर पैदल चलना पड़ा.

08 June 2021

भारत सतत विकास लक्ष्यों पर दो पायदान फिसलकर 117 वें स्थान पर पहुंचा: रिपोर्ट

सतत विकास रैंकिंग में भारत दो स्थान पिछड़ गया है. एक नई रिपोर्ट में कहा गया है कि 2015 में संयुक्त राष्ट्र के 193 सदस्य देशों द्वारा 2030 के एजेंडे के एक हिस्से के रूप में अपनाए गए 17 सतत विकास लक्ष्यों में भारत का रैंक पिछले साल के मुकाबले दो स्थान फिसलकर 117 पर पहुंच गया है. 
भारत की पर्यावरण रिपोर्ट 2021 की स्थिति से खुलासा हुआ है कि भारत की रैंक पिछले साल 115वीं थी जो अब 117वीं हो गई है. यह जानकारी एक नई रिपोर्ट में सामने आई है. यह पर्यावरणीय सेहत, जलवायु, वायु प्रदूषण, स्वच्छता एवं पेयजल, पारिस्थितिकी तंत्र सेवाएं, जैव विविधता आदि जैसे विभिन्न कारकों के आधार पर तय किया जाता है.

चीन ने 3 से 17 साल तक के बच्चों के लिए कोविड -19 वैक्सीन को मंजूरी दी

चीन ने 3 से 17 साल तक की उम्र के बच्चों के लिए सिनोवैक बायोटेक की वैक्सीन के इमरजेंसी इस्तेमाल की मंजूरी दे दी है. चीन, तीन साल की उम्र के बच्चों के लिए वैक्सीन की मंजूरी देने वाला पहला देश बन गया. वहां अबतक 18 वर्ष और उससे अधिक उम्र के लोगों को ही वैक्सीन लगाई जा रही थी. 
अमेरिका, ब्रिटेन, यूरोप और कुछ अन्य देशों में 12 से 16 साल की उम्र के किशोरों को टीका देने की शुरुआत हुई है. हालांकि, अभी तक इसकी पुष्टि नहीं हुई है कि किस आयु वर्ग को और कब चीन में इस टीके की पहली खुराक दी जाएगी. चीन की सरकारी कंपनी सिनोफार्म ने भी किशोरों के लिए अपनी वैक्सीन की अनुमति मांगी है.