मासिक करेंट अफेयर्स

09 January 2021

प्रवासी भारतीय दिवस

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 09 जनवरी 2021 को प्रवासी भारती दिवस सम्मेलन का उद्घाटन किया. कोविड-19 महामारी के बीच 16वां प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन डिजिटल माध्यम से आयोजित किया जा रहा है. 16वें प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन का मुख्य विषय ‘आत्मनिर्भर भारत में योगदान’ है. 
प्रवासी भारतीय दिवस प्रतिवर्ष 09 जनवरी को मनाया जाता है क्योंकि महात्मा गांधी 09 जनवरी 1915 को दक्षिण अफ्रीका से भारत लौटे थे. महात्मा गांधी को सबसे महान प्रवासी माना जाता है जिन्होंने न केवल भारत के स्वतंत्रता संग्राम का नेतृत्व किया बल्कि भारतीयों के जीवन को हमेशा के लिए बदल दिया. इसीलिए 09 जनवरी को प्रवासी भारतीय दिवस मनाया जाता है. प्रवासी भारतीय दिवस पहली बार साल 2003 में मनाया गया था.

प्रवासी भारतीय दिवस मनाने का उद्देश्य उन प्रवासी भारतीयों को मान्यता देना है जिन्होंने भारत के विकास में योगदान दिया है. प्रवासी भारतीय दिवस उनके लिए सबसे खास होता है जो देश के बाहर रह रहे लोग विदेश में रहकर भी भारत का नाम रोशन करते हैं. इस दिवस का मुख्य उद्देश्य भारत के विकास में प्रवासी भारतीयों के योगदान को पहचान दिलाने से है. इस मौके पर प्रत्येक साल भारत सरकार अमूमन तीन दिवसीय सम्‍मेलन का आयोजन करती है.

प्रवासी भारतीय दिवस का उद्देश्य अप्रवासी भारतीयों की भारत के प्रति सोच और उनकी भावनाओं की अभिव्यक्ति के साथ ही उनकी अपने देशवासियों के साथ सकारात्मक बातचीत हेतु एक मंच उपलब्ध कराना है. प्रवासी भारतीय दिवस का एक अन्य उद्देश्य दुनिया के सभी देशों में अप्रवासी भारतीयों का एक नेटवर्क बनाना और युवा पीढ़ी को अप्रवासियों से जोड़ना है. यह दिवस भारतवासियों को अप्रवासी बंधुओं की उपलब्धियों के बारे में बताना तथा अप्रवासियों को देशवासियों की उनसे अपेक्षाओं से अवगत कराने हेतु मनाया जाता है. इस दिन, सरकार विदेशी भारतीयों को अपनी जड़ों से जोड़ने पर ध्यान केंद्रित करती है ताकि वे देश के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दे सकें. 

प्रवासी भारतीय सम्मान: प्रवासी भारतीय सम्मान भारत के प्रवासी भारतीय के मामलों का मंत्रालय द्वारा स्थापित एक पुरस्कार है. यह सम्मान प्रत्येक साल 09 जनवरी को प्रवासी भारतीय दिवस के अवसर पर प्रदान किया जाता है. प्रतिवर्ष प्रवासी भारतीय दिवस के अवसर पर भारत के राष्ट्रपति द्वारा प्रदान किया जाता है. यह पुरस्कार प्रवासी भारतीयों को उनके अपने क्षेत्र में किये गये असाधारण योगदान के लिये दिया जाता है.

No comments:

Post a Comment