मासिक करेंट अफेयर्स

05 March 2021

लोकसभा टीवी और राज्यसभा टीवी का विलय हुआ

लोकसभा टीवी और राज्यसभा टीवी का विलय हो गया है. अब यह संसद टीवी के नाम से जाना जायेगा. राज्यसभा सचिवालय ने 01 मार्च 2021 को आधिकारिक रूप से इसकी घोषणा की. मालूम हो कि पिछले साल जून माह में ही विलय कर दिया गया था. 
दोनों टीवी चैनलों के विलय के साथ शीर्ष स्तर पर अधिकारियों में भी बदलाव किया गया है. संसद टीवी का मुख्य कार्यकारी अधिकारी 1986 बैच के आईएएस अधिकारी सेवानिवृत्त रवि कपूर को नियुक्त किया गया है.

बताया जाता है कि सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी रवि कपूर का संसद टीवी में कार्यकाल एक वर्ष की अवधि या अगले आदेश तक, जो भी पहले हो, के रूप में किया गया है. रिटायर्ड आईएएस अधिकारी रवि कपूर 1986 बैच के असम-मेघालय कैडर के हैं. उन्होंने कॉमर्स में ग्रेजुएशन और बिजनेस एडमिनिस्ट्रेशन में पोस्ट ग्रेजुएशन किया है. वे कपड़ा मंत्रालय के सचिव रह चुके हैं. साथ ही खान और खनिज, वन और पर्यावरण, एक्ट ईस्ट पॉलिसी मामलों और सार्वजनिक उद्यम के प्रभारी भी रह चुके हैं.

गौरतलब है कि भारत में लोकसभा की कार्यवाही को लोकसभा टीवी पर दिखाया जाता है. इसकी शुरुआत साल 1989 में हुई थी. कुछ वर्षों बाद राष्ट्रपति के अभिभाषण के अतिरिक्त प्रश्नकाल, शून्यकाल जैसे सेशन का भी लाइव प्रसारण कर शुरू किया गया था. राज्यसभा टीवी एक हिन्दी टीवी चैनल है. यह एक राजनीतिक समाचार चैनल है. यह चैनल ऊपरी सदन की कार्यवाही को कवर करता है. राज्यसभा टीवी को साल 2011 में लॉन्च किया गया था. इसपर राज्यसभा के लाइव प्रसारण के अलावा कई राजनीतिक, सरकारी और अन्य कार्यक्रमों को दिखाया जाता था.

साल 2019 में दोनों चैनलों के विलय को लेकर एक कमिटी का गठन किया गया था. राज्यसभा के सभापति वैंकेया नायडू और लोकसभा स्पीकर ओम बिरला ने पैनल का गठन किया था. इसी पैनल की सिफारिश पर दोनों चैनलों का विलय किया गया है.

No comments:

Post a comment