मासिक करेंट अफेयर्स

27 April 2021

भारत के ज़ाइडस कैडिला ने किया COVID-19 वैक्सीन का उत्पादन शुरू

23 अप्रैल, 2021 को भारत के ज़ाइडस कैडिला हेल्थ केयर ने ‘ZyCoV-D’ COVID-19 वैक्सीन का उत्पादन शुरू किया, जिसका लक्ष्य प्रति वर्ष 240 मिलियन खुराक का उत्पादन करना था. कंपनी मई या जून में आपातकालीन उपयोग प्राधिकार की मांग करेगी. 
कैडिला हेल्थकेयर के प्रबंध निदेशक शार्विल पटेल ने यह कहा कि, कंपनी ने अभी खुराक का उत्पादन शुरू किया है. इसका उद्देश्य जून से शुरू होने वाले महीने में 10 मिलियन खुराक का उत्पादन करना है, इस प्रकार इन-हाउस वार्षिक क्षमता को 120 मिलियन खुराक तक ले जाना है. उनकी कंपनी दो निर्माताओं के साथ पहले से ही बातचीत कर रही है. इस वैक्सीन के लिए कैडिला अपने सभी अवयवों को घरेलू स्तर पर खरीद रही है. उन्होंने आगे यह भी कहा कि, "हमारे लिए सब कुछ भारत में किया गया है. हमारी आपूर्ति श्रृंखला सुरक्षित है. हमारे पास अगले 14-15 महीनों के लिए कोई समस्या नहीं है.” 

कैडिला हेल्थ केयर ने अहमदाबाद के वैक्सीन टेक्नोलॉजी सेंटर में फरवरी, 2020 में डीएनए प्लास्मिड आधारित COVID-19 वैक्सीन विकसित की थी. चरण -1 और चरण -2 मानव परीक्षणों को ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) द्वारा अनुमोदित किया गया था. ZyCoV-D के लिए चरण -2 का परीक्षण 1,000 से अधिक स्वस्थ स्वयंसेवकों/वोलंटियर्स पर किया गया था. इन परीक्षणों के दौरान ZyCoV-D को सुरक्षित और प्रतिरक्षात्मक पाया गया है. नवंबर, 2020 में ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) से मंजूरी मिलने के बाद, इस कंपनी ने यह घोषणा की थी कि, वह 30,000 रोगियों पर टीके के चरण -3 का ट्रायल परीक्षण करेगी. इस वैक्सीन को चार शहरों अहमदाबाद, जयपुर, सूरत और नासिक में लगाया गया था.

ZyCoV-D पहला स्वदेशी तौर पर विकसित डीएनए प्लास्मिड-आधारित वैक्सीन है. इसे भारत में कैडिला हेल्थ केयर द्वारा विकसित किया गया है और ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI) द्वारा अनुमोदित किया गया है. यह एक विशिष्ट उपकरण के माध्यम से त्वचा के अंदर इस वैक्सीन को लगाने का एक सुई रहित, दर्द रहित तरीका है. भारत में 24 अप्रैल, 2021 को 1,66,10,481 COVID-19 मामलों की पुष्टि की गई जिसमें 25,52,940 सक्रिय मामले हैं और अब तक 1,89,544 से अधिक मौतें हुईं हैं.

No comments:

Post a comment