मासिक करेंट अफेयर्स

18 October 2017

पीएम नरेंद्र मोदी ने अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान का उद्घाटन किया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आयुर्वेद दिवस पर देश के पहले अखिल भारतीय आयुर्वेद संस्थान का लोकार्पण किया. उन्होंने देश को विरासत, परंपरा के साथ विकास करने की बात कही. साथ ही आयुर्वेद के ज़रिए सस्ती चिकित्सकीय पद्धति विकसित करने, नए अनुसंधान करने और पिछले तीन वर्षों में नई स्वास्थ्य नीति के ज़रिए आयुष मंत्रालय द्वारा देश भर में 65 आयुर्वेदिक अस्पताल स्थापित करने की बात कही. आधुनिक युग में बढ़ते प्राकृतिक चिकित्सा के प्रभाव और हर्बल दवाइयों के बढ़ते प्रयोग के बीच प्रधानमंत्री ने कहा कि देश की परंपरा आज के युग में रोज़गार का बड़ा ज़रिया भी है. ये संस्थान देश में अनुसंधान, चिकित्सा के पारंपरिक ज्ञान और प्रौद्योगिकी के बीच तालमेल बैठाएगा. प्रधानमंत्री ने देश की विरासत, परंपरा, इतिहास पर गर्व करने को ज़रूरी बताया और कहा कि देश ने गुलामी के दौर में जो श्रेष्ठ था उसे भुला दिया और आज़ादी के बाद भी कुछ ऐसा ही भाव देश में रहा. लेकिन अब केंद्र सरकार ऐसी नीतियां बना रही है, जिससे देश के पारंपरिक ज्ञान के साथ आयुर्वेद चिकित्सा पद्धति को बढ़ावा मिल रहा है.

प्रधानमंत्री ने लोगों के लिए आयुर्वेद क्षेत्र में नए अनुसंधान, कम समय में ज़्यादा प्रभावी दवाइओं के विकास करने पर ज़ोर दिया. उन्होंने कहा कि सरकार स्वास्थ्य क्षेत्र में बीमारियों से बचाव के साथ ग़रीब लोगों तक सस्ती स्वास्थ्य सेवाएं पहुंचाने के लिए कई काम कर रही है. आयुर्वेद के विस्तार को लेकर आयुष मंत्रालय द्वारा देश में 65 अस्पतालों को विकसित किए जाने और स्वास्थ्य क्षेत्र में हर्बल दवाओं के बढ़ते उपयोग को एक अवसर बताया. उन्होंने कहा कि विश्व में स्वास्थ्य क्षेत्र में हो रहे बदलाव और ज़रूरतों के मुताबिक़ देश में भी कई क़दम उठाए जा रहे हैं. देश में अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान के खुलने से एक ओर जहां पारंपरिक चिकित्सा पद्धति को बढ़ावा मिलेगा, वहीं दूसरी ओर लोगों के बीच तेज़ी के साथ प्रभावशाली रूप से इलाज़ भी मुहैया कराया जा सकेगा. संस्थान के लोकार्पण के अवसर पर आयुष मंत्रालय द्वारा विकसित 'आयुर्वेदिक मानक उपचार दिशा-निर्देश' भी प्रधानमंत्री ने जारी किया.

No comments:

Post a Comment