मासिक करेंट अफेयर्स

26 October 2017

केंद्र सरकार ने “भारत माला परियोजना” को मंजूरी दी

केंद्रीय सरकार ने “भारत माला परियोजना” के लिए 6.72 लाख करोड़ रुपये की राशि को मंजूरी दी है. इस परियोजना के तहत भारत में 83,677 किलो मीटर के राजमार्गों के निर्माण किया जाएगा. भारत माला योजना केंद्र सरकार की सबसे बड़ी सड़क परियोजना है. केंद्र सरकार इस राशि को अगले पांच सालों में राशि खर्च करेगी. इस परियोजना के अंतर्गत, भारत माला रोड कार्यक्रम और राजमार्ग निर्माण कार्यक्रम में बोएडर क्षेत्रों, अंतर्राष्ट्रीय बंदरगाह और तटीय कनेक्टिविटी की कनेक्टिविटी में सुधार होगा. साथ ही, कम से कम 800 किमी एक्सप्रेसवे के अलावा प्रमुख आर्थिक और वाणिज्यिक केंद्रों को जोड़ने वाले राजमार्ग गलियारों के सुधार किया जाएगा. इस योजना के मुताबिक, देश भर में 34,800 किलोमीटर के राजमार्गों के लिए 5.35 लाख करोड़ रुपये की धनराशि मिलेगा.

देश में जहां तक ​​संसाधनों का सवाल है, 2.09 लाख करोड़ रुपये बाजार उधार से, निजी निवेश के रूप में 1.06 लाख करोड़ रुपये और सेंट्रल रोड फंड (सीआरएफ), टोल रसीदों से शेष राशि और राज्य से वित्त पोषित राजमार्गों के चुंबकीयकरण से आय होगी. सूचना के मुताबिक, राष्ट्रीय राजमार्ग प्राधिकरण (NHAI) और सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्रालय 48,887 किलोमीटर का निर्माण करेगा. भारत माला परियोजना 2017-18 के अंतर्गत, सरकार 9 हजार किलोमीटर राजमार्गों को आर्थिक गलियारों के रूप में, 6000 किलोमीटर अंतर-कॉरिडोर / फीडर मार्ग, 5000 किमी राष्ट्रीय गलियारों के रूप में, 2,000 किमी सीमा सड़कों और तटीय / बंदरगाह कनेक्टिविटी सड़कों और 800 किमी ग्रीनफील्ड एक्सप्रेस-वे। राष्ट्रीय राजमार्ग विकास कार्यक्रम के तहत अभी भी लंबित 10,000 किलोमीटर का निर्माण भी भारतमला के तहत किया जाएगा. 

सीमावर्ती सड़कों को बढ़ावा देने से पूर्वोत्तर राज्यों की अर्थव्यवस्थाओं को बढ़ावा देने के अलावा, बांग्लादेश, नेपाल और भूटान के साथ भारत के व्यापार को बढ़ाने में मदद मिलेगी. पहले चरण में सरकार 20,000 किमी से अधिक राजमार्गों का निर्माण करने के लिए भारतमला प्रोजेक्ट लॉन्च करेगी. मंत्रिमंडल ने अगले तीन वर्षों में प्रधान मंत्री ग्राम सड़क योजना के अंतर्गत 1.0 9 लाख किलोमीटर ग्रामीण सड़कों को मंजूरी दे दी. इससे 88,185 करोड़ रुपये का निवेश होगा.

No comments:

Post a Comment