मासिक करेंट अफेयर्स

14 August 2018

पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी का निधन

पूर्व लोकसभा अध्यक्ष सोमनाथ चटर्जी का 13 अगस्त 2018 को कोलकाता में निधन हो गया. वे 89 वर्ष के थे. पिछले काफी दिनों में सोमनाथ चटर्जी बीमार चल रहे थे. वे कुछ दिन से कोलकाता के एक अस्‍पताल में वेंटिलेटर सपोर्ट पर थे. सोमनाथ चटर्जी को किडनी संबंधी परेशानी होने के बाद 10 अगस्‍त 2018 को अस्‍पताल में भर्ती कराया गया था. उन्होंने 35 सालों तक सांसद के तौर पर देश की सेवा की और उन्हें वर्ष 1996 में सर्वश्रेष्ठ सांसद के पुरस्कार से सम्मानित किया गया. उन्होंने पहली बार वर्ष 1971 में लोकसभा चुनाव जीते थे. वे वर्ष 2004 में 10वीं बार
लोकसभा के लिये चुने गये थे. यूपीए शासनकाल के दौरान वर्ष 2004 में वे सर्वसम्मति से लोकसभा के अध्‍यक्ष्‍ा चुने गए थे. 

सोमनाथ चटर्जी का जन्म 25 जुलाई 1929 को असम के तेजपुर में हुआ था. सोमनाथ चटर्जी ने कोलकाता और ब्रिटेन में पढ़ाई की. इसके अलावा उन्होंने कोलकाता के प्रेसिडेंसी कॉलेज में भी पढ़ाई की. सोमनाथ चटर्जी ने ब्रिटेन में लॉ की पढ़ाई करने के बाद कलकत्ता हाइकोर्ट में प्रैक्टिस की और उसके बाद राजनीति में अपना कदम रखा. सोमनाथ चटर्जी का राजनीतिक जीवन विरोधाभाषों के साथ शुरू हुआ था. उन्होंने अपने राजनीतिक करियर की शुरुआत सीपीएम के साथ वर्ष 1968 में की थी और वो पार्टी से वर्ष 2008 तक जुड़े रहे. वे वर्ष 1989 से वर्ष 2004 तक लोकसभा में सीपीएम संसदीय दल के नेता रहे. 

लोकसभा अध्यक्ष के रूप में व्यापक मीडिया कवरेज प्रदान करने हेतु सोमनाथ चटर्जी के प्रयासों से ही 24 जुलाई 2006 से 24 घंटे का लोकसभा टेलीविजन शुरू किया गया था. उनके लोकसभा अध्यक्ष पर रहते हुए उनकी पहल पर ही भारत की लोकतांत्रिक विरासत पर अत्याधुनिक संसदीय संग्रहालय की स्थापना की गई थी. वर्ष 2008 में भारत-अमेरिका परमाणु समझौता विधेयक के विरोध में सीपीएम ने तत्कालीन मनमोहन सरकार से समर्थन वापस ले लिया था. तब सोमनाथ चटर्जी लोकसभा अध्यक्ष थे. पार्टी ने उन्हें स्पीकर पद छोड़ देने के लिए कहा लेकिन वह नहीं माने. इसके बाद सीपीएम ने उन्हें पार्टी से निकाल दिया.

No comments:

Post a Comment