मासिक करेंट अफेयर्स

10 August 2018

विश्व जैव ईंधन दिवस

विश्व भर में 10 अगस्त 2018 को जैव ईंधन दिवस मनाया जा रहा है. पिछले तीन वर्षों से तेल एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय विश्व जैव-ईंधन दिवस का आयोजन कर रहा है. जैव ईंधन के विकल्पों को आगे बढ़ाकर सरकार क्रूड के आयात बिल को काफी हद तक कम कर सकती है. जैव ईंधन दिवस प्रति वर्ष गैर जीवाश्म ईंधन (हरी ईंधन) के प्रति जागरूकता पैदा करने के उद्देश्य से मनाया जाता है. जीवाश्म ईंधन की जागरुकता के लिए हर साल 10 अगस्त के दिन बायोफ्यूल डे मनाया जाता है. जैव ईंधन कच्चे तेल पर आयात निर्भरता को कम कर पर्यावरण में अपना योगदान कर सकता है. साथ ही ये साफ पर्यावरण, किसानों के लिए अतिरिक्त कमाई और ग्रामीण इलाकों में रोजगार की संभावनाएं पैदा कर सकता है. सर रुदाल्फ डीजल (डीजल इंजन के आविष्कारक) ने 10 अगस्त 1893 को पहली बार मूंगफली के तेल से यांत्रिक इंजन को सफलतापूर्वक चलाया. उन्होंने शोध के प्रयोग के बाद भविष्यवाणी की कि अगली सदी में विभिन्न यांत्रिक इंजन वनस्पति तेल की जगह जीवाश्म ईंधन का प्रयोग किया जा सकेगा. इस असाधारण उपलब्धि को प्रदर्शित करने हेतु प्रति वर्ष 10 वीं अगस्त को विश्व जैव ईंधन दिवस मनाया जाता है.

इस अवसर पर नई दिल्ली स्थित विज्ञान भवन में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कार्य्रक्रम का उदघाटन करते हुए कहा कि साल 2022 तक पेट्रोल में 10 फीसद इथेनॉल मिलाया जाएगा जिसे 2030 में बढ़ाकर 20 फीसद किया जाएगा. सरकार इस लक्ष्य को हासिल करने की पूरी कोशिश कर रही है. इथेनॉल उत्पादन के लिए सभी कृषि अपशिष्ट का इस्तेमाल किया जा सकता है. जैव-ईंधन कार्यक्रम भारत सरकार के ‘मेक इन इंडिया’, स्वच्छ भारत और किसानों की आमदनी बढ़ाने वाली योजनाओं के साथ भी सुसंगत है. सरकार ने ईंधन में मिलाये जाने वाले एथेनोल पर जीएसटी 18 से घटाकर 5% कर दिया है. तेल एवं प्राकृतिक गैस मंत्रालय एथेनोल की आपूर्ति बढ़ाने के सभी प्रयास कर रहा है और मंत्रालय ने इस दिशा में कई कदम उठाये हैं. वर्ष 2014 से भारत सरकार ने कई ऐसी पहले की हैं जिनसे अन्य ईंधनों में जैव-ईंधनों को मिलाने की मात्रा को बढ़ाया जा सके. मुख्य पहलों में शामिल हैं: एथेनोल के लिये नियंत्रित मूल्य प्रणाली, तेल विपणन कंपनियों के लिये प्रक्रिया को सरल बनाना, 1951 के उद्योग (विकास एवं नियमन) अधिनियम में संशोधन तथा एथेनोल की खरीद के लिये लिग्नोसेलुलोसिक तरीके को अपनाना.

No comments:

Post a Comment