मासिक करेंट अफेयर्स

09 August 2018

गंगा सफाई कार्यो की निगरानी के लिए एनजीटी ने बनाई समिति

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने सोमवार को कहा कि हरिद्वार से उन्नाव तक गंगा की सफाई के लिए बेहद कड़ी निगरानी और व्यवस्थित रुख अपनाने की जरूरत है. ट्रिब्यूनल ने हाई कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश की अध्यक्षता में एक समिति भी गठित की जो गंगा सफाई के कार्यो की निगरानी करेगी. एनजीटी चेयरमैन जस्टिस आदर्श कुमार गोयल, जस्टिस जवाद रहीम और जस्टिस एसपी बांगड़ी की पीठ ने कहा कि गंगा सफाई का काम बहुत बड़ा है और इस दिशा में अपेक्षित परिणाम हासिल करने के लिए ऐसे विशेषज्ञ लोगों की जरूरत है जो अपना पूरा समय दे सकें. पीठ ने कहा की कुछ प्रगति तो हुई है, लेकिन यह नहीं कहा जा सकता कि यह प्रगति उम्मीदों पर खरी उतरती है.

एनजीटी द्वारा गठित समिति में इलाहाबाद हाई कोर्ट के पूर्व न्यायाधीश का मनोनयन हाई कोर्ट के मुख्य न्यायाधीश करेंगे. जबकि समिति में एक प्रतिनिधि केंद्रीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड और एक प्रतिनिधि भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान से होगा. समिति को एक माह में कामकाज शुरू कर देने और हर तीन महीने में अपनी रिपोर्ट सौंपने के निर्देश दिए गए हैं. समिति के साथ संयोजन के लिए राष्ट्रीय स्वच्छ गंगा मिशन (एनएमसीजी) नोडल एजेंसी होगी. एनजीटी ने एनएमसीजी को अन्य प्राधिकारियों के साथ भी समन्वय करने का निर्देश दिया है ताकि गंगा के उन्नाव से पश्चिम बंगाल तक के हिस्से के लिए चार महीने में कार्ययोजना तैयार की जा सके.

No comments:

Post a Comment