मासिक करेंट अफेयर्स

11 May 2021

हिमंत बिस्वा सरमा असम के 15वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली

हिमंत बिस्वा सरमा ने 10 मई 2021 को असम के 15वें मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ली. शपथ ग्रहण समारोह में बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा के साथ ही कई अन्य नेता भी मौजूद थे. उन्हें राज्यपाल जगदीश मुखी ने शपथ दिलाई. हिमंत विस्वा सरमा को सर्वसम्मति से बीजेपी विधायक दल और उसके बाद फिर असम में एनडीए विधायक दल का नेता चुना गया था. 
हिमंत विस्वा सरमा के साथ-साथ कई मंत्रियों को भी शपथ दिलाई गई. विधायक दल की बैठक में पूर्व मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने ही उनका नाम आगे बढ़ाया, जिस पर सभी ने सहमति जताई. मंत्री के रूप में शपथ लेने वालों में असम बीजेपी चीफ रंजीत कुमार दास, असम गढ़ परिषद (एजीपी) चीफ अतुल बोरा, यूपीपीएल लीडर यूजी ब्रह्मा, बीजेपी नेता परिमल शुक्लबैद्य, बीजेपी नेता चंद्र मोहन शामिल हैं.

हिमंता बिस्वा सरमा का जन्म 01 फरवरी 1969 को हुआ था. उनके पिता का नाम कैलाश नाथ सरमा और मां का नाम मृणालिनी देवी है. हिमंत बिस्वा सरमा ने गुवाहाटी के कामरुप एकैडमी स्कूल से शुरुआती पढ़ाई की. हिमंत ने सरकारी लॉ कॉलेज से एलएलबी किया और गुवाहाटी कॉलेज से पीएचडी की उपाधि हासिल की है. वे साल 1996 से लेकर 2001 तक गुवाहाटी हाईकोर्ट में प्रैक्टिस भी कर चुके हैं. हिमंत बिस्वा सरमा पहले कांग्रेस पार्टी में थे लेकिन कुछ मतभेद होने के बाद उन्होंने साल 2015 में पार्टी छोड़ दी थी और बीजेपी में शामिल हो गए थे. साल 2001 से 2015 तक भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस के टिकट से असम के जलकुबारी निर्वाचन क्षेत्र से विधायक रहे. हिमंत बिस्वा सरमा असम की जालुकबारी विधानसभा सीट से लगातार पांचवीं बार विधायक चुने गए हैं. हिमंता बिस्वा शर्मा ने इस बार कांग्रेस के उम्मीदवार रामेन चंद्र बोर ठाकुर को हराकर विधानसभा पहुंचे हैं. वे इससे पहले सोनोवाल सरकार में मंत्री रह चुके हैं. 

सत्ताधारी एनडीए गठबंधन राज्य की पहली गैर कांग्रेसी सरकार होगी जिसने प्रदेश में लगातार दूसरी बार चुनावों में जीत हासिल की है. बीजेपी ने 126 सदस्यीय विधानसभा में 60 सीटों पर जीत दर्ज की है, जबकि उसकी गठबंधन सहयोगी असम गण परिषद ने नौ और यूनाइटेड पीपुल्स पार्टी लिबरल ने छह सीटों पर जीत हासिल की है.

No comments:

Post a Comment