मासिक करेंट अफेयर्स

02 May 2021

अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस

प्रत्येक वर्ष 01 मई को अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस  के तौर पर मनाया जाता है, जिसे मई दिवस, अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस या दुनिया भर में श्रमिक दिवस के तौर पर भी जाना जाता है. यह दिन दुनिया भर के मजदूर समुदाय और उनके योगदान को मनाने के साथ ही वर्ष, 1886 के ऐतिहासिक हेमार्केट दंगों की याद दिलाने के लिए मनाया जाता है. 
अंतर्राष्ट्रीय श्रम दिवस को दुनिया भर के लोगों की कामकाजी स्थितियों में निष्पक्षता और न्याय लाने के लिए लोगों द्वारा दिए गये ऐतिहासिक बलिदान और संघर्ष को याद करने के लिए मनाया जाता है. यह दिन हम सभी को श्रमिक समुदाय के योगदान की सराहना करने और बेहतर रोजगार के अवसर पैदा करने, काम करने की स्थिति में सुधार करने, सामाजिक सुरक्षा प्रदान करने के साथ-साथ श्रमिकों के अधिकारों की रक्षा करने में मदद करने का आह्वाहन करता है.

अंतर्राष्ट्रीय मजदूर/ श्रम दिवस की शरुआत 18वीं शताब्दी में, अमेरिका में मजदूर संघ के आंदोलन से हुई थी. पहले मजदूरों को दिन में 15 घंटे काम करने के लिए मजबूर किया जाता था. 01 मई 1886 को, शिकागो में एक हड़ताल हुई, जिसे 8 घंटे के कार्यदिवस को अपनाने के लिए हेमार्केट दंगों के तौर पर जाना जाता है. इस हड़ताल के दौरान एक बम फेंका गया जिसके कारण पुलिस को प्रदर्शनकारियों पर गोलियां चलानी पड़ीं और बड़ी संख्या में मजदूरों, नागरिकों और पुलिस अधिकारीयों की मौत हो गई. वर्ष, 1889 में मार्क्सवादी इंटरनेशनल सोशलिस्ट कांग्रेस ने पेरिस में एक बैठक बुलाकर यह संकल्प लिया कि, मजदूरों को दिन में 08 घंटे से अधिक काम करने के लिए मजबूर न किया जाए. इस संकल्प को अपनाने के बाद, 01 मई, 1886 के हेमार्केट दंगों की याद दिलाने के लिए इस दिन अर्थात 01 मई को पूरी दुनिया में अंतर्राष्ट्रीय श्रम दिवस के तौर पर मनाया जाने लगा. लेबर किसान पार्टी ऑफ़ हिंदुस्तान द्वारा 01 मई 1923 को मद्रास (अब चेन्नई), भारत में पहली बार अंतर्राष्ट्रीय मजदूर दिवस मनाया गया था.

No comments:

Post a comment