मासिक करेंट अफेयर्स

06 May 2021

ममता बनर्जी ने लगातार तीसरी बार पश्चिम बंगाल के CM पद की शपथ ली

तृणमूल कांग्रेस की सुप्रीमो ममता बनर्जी ने तीसरी बार 05 मई 2021 को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री के तौर पर शपथ ले ली है. राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने कोविड के बढ़ते प्रकोप के बीच राजभवन में आयोजित साधारण समारोह में उन्हें पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई. 
ममता बनर्जी ने अपने पारंपरिक अंदाज में बांग्ला में शपथ ली. ममता बनर्जी ने फिलहाल अकेले शपथ ली हैं. उनके कैबिनेट के सदस्य बाद में शपथ लेंगे. इधर, कोरोना महामारी के मद्देनजर राजभवन में आयोजित सादे समारोह में मात्र 50 लोगों को ही आमंत्रित किया गया था. इसमें सभी राजनीतिक दलों के प्रमुख नेताओं को आमंत्रित किया गया था.

ममता बनर्जी ने कहा कि पद संभालने के बाद उनकी पहली प्राथमिकता कोविड स्थिति से निपटना होगी. मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने शपथ लेने के तुरंद बाद सभी राजनीतिक दलों से शांति सुनिश्चित करने की अपील की. ममता ने कहा कि बंगाल को हिंसा पसंद नहीं है. पश्चिम बंगाल के राज्यपाल ने कहा कि मैं ममता जी को उनके तीसरे कार्यकाल की बधाई देता हूं. आशा है कि शासन संविधान और कानून के नियम के अनुसार चलेगा. हमारी प्राथमिकता इस संवेदनहीन हिंसा का अंत करना है, जिसने समाज को बड़े स्तर पर प्रभावित किया है. उम्मीद है कि मुख्यमंत्री कानून के शासन को बहाल करने के लिए तत्काल कदम उठाएंगी.

बता दें कि तृणमूल कांग्रेस ने पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में शानदार जीत दर्ज कर इतिहास रच दिया है. लगातार तीसरी बार राज्य की सत्ता पर टीएमसी काबिज हुई है. पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव 2021 में पार्टी को 292 विधानसभा सीटों में से 213 पर जीत हासिल हुई है जो बहुमत के जादुई आंकड़े से भी कहीं अधिक है. वहीं, इस विधानसभा चुनाव में बीजेपी 77 सीटों पर विजयी रही है. ममता बनर्जी अपनी पार्टी को 2016 में भी शानदार जीत दिलाने में सफल रहीं और तृणमूल कांग्रेस की झोली में 211 सीट आई.

बंगाली ब्राह्मण परिवार में जन्मीं बनर्जी पार्टी के कई नेताओं की बगावत के बावजूद अंतत: अपनी पार्टी को तीसरी बार भी शानदार जीत दिलाने में कामयाब रहीं. ममता बनर्जी का जन्म कोलकाता (पूर्व में कलकत्ता), पश्चिम बंगाल में एक बंगाली हिन्दू परिवार में हुआ था. उनके माता-पिता प्रोमिलेश्वर बनर्जी और गायत्री देवी थे. ममता बनर्जी राजनीति में तब शामिल हो गए जब वह केवल 15 वर्ष के थे. ममता बनर्जी को दीदी के नाम से भी जाना जाता है. वे पश्चिम बंगाल की पहली महिला मुख्यमंत्री हैं.  वे 1996, 1998, 1999, 2004 और 2009 में कोलकाता दक्षिण सीट से लोकसभा सदस्य भी रह चुकी हैं.

No comments:

Post a Comment