मासिक करेंट अफेयर्स

18 October 2021

महेंद्र सिंह धोनी ने रचा इतिहास, टी20 में 300 मैचों में कप्तानी करने वाले पहले खिलाड़ी बने

महेंद्र सिंह धोनी ने चेन्नई सुपर किंग्स की तरफ से इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) फाइनल में 15 अक्टूबर 2021 को कोलकाता नाइट राइडर्स (केकेआर) के खिलाफ टॉस के लिये उतरते ही एक विशिष्ट रिकार्ड अपने नाम पर जोड़ा. वे क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप टी20 में 300 मैचों में कप्तानी करने वाले दुनिया के पहले खिलाड़ी बन गये हैं. 
धोनी ने साल 2006 में टी20 में पदार्पण किया और साल 2007 से वह भारत तथा आईपीएल में कप्तानी का जिम्मा संभाल रहे हैं. उन्होंने आईपीएल फाइनल से पहले जिन 299 मैचों में कप्तानी की उनमें उन्होंने 176 में जीत दर्ज की जबकि 118 मैच में उन्हें हार मिली. दो मैच टाई समाप्त हुए और तीन मैचों का परिणाम नहीं निकला.

चेन्नई ने इंडियन प्रीमियर लीग (IPL) 2021 का खिताब जीत लिया है. दुबई में खेले गए फाइनल मुकाबले में चेन्नई ने कोलकाता को 27 रनों से हराया. जहां धोनी की टीम चौथी बार आईपीएल खिताब जीतने में सफल रही है. चेन्नई ने टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करते हुए 20 ओवरों में तीन विकेट पर 192 रन बनाए. जवाब में कोलकाता की टीम नौ विकेट पर 165 रन ही बना पाई. इस जीत के साथ चेन्नई ने चौथा आईपीएल खिताब अपने नाम किया. चेन्नई ने इससे पहले साल साल 2010, साल 2011 और साल 2018 में आईपीएल अपने नाम किया था.

भारत ने धोनी की अगुवाई में ही 2007 में पहले टी20 विश्व कप का खिताब जीता. उनकी कप्तानी में भारत ने टी20 अंतरराष्ट्रीय में कुल 72 मैच खेले जिनमें से उसे 41 में जीत और 28 में हार मिली. एक मैच टाई छूटा जबकि दो मैचों का परिणाम नहीं निकला. इसके अतिरिक्त उन्होंने विभिन्न अभ्यास मैचों में भारतीय टीम की अगुवाई की. धोनी के बाद सर्वाधिक टी20 मैचों में कप्तानी करने वाले खिलाड़ियों में डेरेन सैमी (208), विराट कोहली (185), गौतम गंभीर (170) और रोहित शर्मा (153) शामिल हैं.

धोनी ने आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स की 190 मैचों और राइजिंग पुणे सुपरजाइंट की 14 मैचों में कप्तानी की है. चेन्नई ने उनके नेतृत्व में फाइनल से पहले तक 115 मैच जीते और 73 में उसे हार मिली जबकि एक मैच का परिणाम नहीं निकला है. उन्होंने अपने करियर में केवल 47 मैच कप्तान के रूप में नहीं खेले.

आईपीएल की शुरुआत: आईपीएल की शुरुआत साल 2008 में 1 जून 2008 को चेन्नई और राजस्थान टीम के बीच फाइनल खेला गया था. इस मैच के आखिरी ओवर में राजस्थान टीम को 8 रनों की जरूरत थी और आखिरी गेंद पर भी टीम को एक रन चाहिए था. सोहेल तनवीर ने आखिरी गेंद पर एक रन लेकर टीम को जीत दिला दी थी.

No comments:

Post a Comment