06 April 2022

भारत पर मुग़ल सम्राज्य का शासन

मुग़ल साम्राज्य एक इस्लामी तुर्की-मंगोल साम्राज्य था जिसकी स्थापना बाबर के द्वारा 1526 ईस्वी में की गई थी. 1526 में स्थापित यह सम्राज्य 1857 तक बचा रहा, जब वह ब्रिटिश राज द्वारा हटाया गया. यह राजवंश कभी कभी तिमुरिड राजवंश के नाम से भी जाना जाता है क्योंकि बाबर तैमूर का वंशज था. 
फ़रग़ना वादी से आए एक तुर्की मुस्लिम बाबर ने मुग़ल राजवंश को स्थापित किया था. उन्होंने उत्तरी भारत के कुछ हिस्सों पर हमला किया और दिल्ली के शासक इब्राहिम शाह लोधी को 1526 में पानीपत के पहले युद्ध में हराया. मुग़ल साम्राज्य ने उत्तरी भारत के शासकों के रूप में दिल्ली के सुल्तान का स्थान लिया. समय के साथ, उमेर द्वारा स्थापित राज्य ने दिल्ली के सुल्तान की सीमा को पार किया, अंततः भारत का एक बड़ा हिस्सा घेरा और साम्राज्य की पदवी प्राप्त की. अपने नए राज्य की स्थापना को सुरक्षित करने के लिए, बाबर को खानवा के युद्ध में राजपूत शक्ति का सामना करना पड़ा जो चित्तौड़ के राणा साँगा के नेतृत्व में था.  मुग़ल साम्राज्य का अंतिम सम्राट बहादुर ज़फ़र शाह था, जिसका शासन दिल्ली शहर तक सीमित रह गया था. अंग्रेजों ने उसे कैद में रखा और 1857 के भारतीय विद्रोह के बाद ब्रिटिश द्वारा म्यानमार निर्वासित कर दिया और मुग़ल सम्राज्य का अंत हो गया.

मुग़ल वंश के शासक:

No comments:

Post a Comment