09 July 2022

वी के कृष्ण मेनन

वेंङालिल कृष्णन कृष्ण मेनोन जिन्हें सामान्यतः कृष्ण मेनोन कहा जाता है, एक भारतीय राष्ट्रवादी, राजनीतिज्ञ, कूटनीतिज्ञ, तथा  भारत के पूर्रव क्षा मंत्री थे. 
मेनन का जन्म कोजीकोड, केरल में पन्नियंकरा में ब्रिटिश मालाबार के वेंगालिल परिवार में हुआ था. उनकी माता 1815 से 1817 के दौरान त्रावणकोर के दीवान रहे रमन मेनन की पौत्री थीं और गौरी पार्वती बाई की सेवा करती थीं. उनके पिता कोमाथु कृष्ण कुरुप कदाथनाडु के राजा के पुत्र थे और एक धनी तथा प्रभावशाली वकील थे. मेनन की प्रारंभिक शिक्षा थालास्सेरी में हुई तथा बी.ए. की उपाधि उन्होंने चेन्नई के प्रेसीडेंसी कॉलेज से प्राप्त की थी.

मद्रास लॉ कॉलेज में अध्ययन के दौरान वे ब्रह्मविद्या में शामिल हो गए थे और सक्रिय रूप से एनी बीसेंट तथा होम रूल आंदोलन के साथ संबद्ध रहे. वे एनी बीसेंट, जिन्होंने उनकी प्रतिभा को पहचाना और 1924 में इंगलैंड की यात्रा करने में उनकी सहायता की थी, के द्वारा स्थापित 'ब्रदर्स ऑफ सर्विस' के अग्रणी सदस्य थे. लंदन में, मेनन ने आगे की शिक्षा लंदन स्कूल ऑफ इकोनॉमिक्स तथा यूनिवर्सिटी कॉलेज, लंदन में पूर्ण की और इसी समय में वे भारत की स्वतंत्रता के अति भावुक समर्थक बन गए.

इंग्लैंड में, उन्होंने एक पत्रकार और इंडिया लीग के सचिव (1929-1947) के रूप में कार्य किया और साथी भारतीय राष्ट्रवादी नेता जवाहरलाल नेहरू से जुड़ गए. 1934 में उन्हें अंग्रेजी बार में शामिल कर लिया गया और लेबर पार्टी में शामिल होने के बाद वे सेंट पैंक्रास, लंदन के नगर पार्षद चुने गए. बाद में सेंट पैंक्रास द्वारा उन्हें फ्रीडम ऑफ बरो से सम्मानित किया गया, यह सम्मान पाने वाले बर्नार्ड शॉ के बाद वे मात्र दूसरे व्यक्ति थे. 1932 में उन्होंने लेबर सांसद एलन विल्किंसन के नेतृत्व में एक तथ्य-खोज प्रतिनिधिमंडल को भारत की यात्रा के लिए प्रेरित किया था. मेनन इसके सचिव थे और उन्होंने 'भारत में परिस्थितियां' शीर्षक वाली इसकी रिपोर्ट का संपादन किया था. तीस के दशक के दौरान उन्होंने एलेन लेन के साथ पेंगुइन और पेलिकन पेपर बैक पुस्तकों की स्थापना की थी. उन्होंने बोडली प्रमुख, पेंगुइन और पेलिकन बुक्स तथा ट्वंटीयथ सेंचुरी लाइब्रेरी में संपादक के रूप में काम किया था.

1947 में भारत को स्वतंत्रता मिलने के बाद, मेनन को युनाइटेड किंगडम में भारत का उच्चायुक्त नियुक्त किया गया था जिस पद पर वे 1952 तक रहे. ब्रिटेन में उच्चायुक्त के रूप में अपने कार्यकाल के दौरान उन पर 1948 के भारत-पाकिस्तान युद्ध के दौरान ब्रिटेन से इस्तेमाल सैन्य जीपों को खरीद कर भारतीय सेना को आपूर्ति करने के मामले में भ्रष्टाचार के घोटाले का आरोप लगाया गया था लेकिन कुछ भी साबित नहीं हुआ. इसके बाद उन्होंने संयुक्त राष्ट्र संघ के लिए भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व किया, जहां उन्होंने अमेरिका की तीव्र आलोचना करते हुए गुटनिरपेक्षता की नीति अपनाई. 23 जनवरी 1957 को उन्होंने कश्मीर पर भारत के रुख का बचाव करते हुए 8 घंटे तक अप्रत्याशित भाषण दिया. कृष्णा मेनन द्वारा दिया गया भाषण संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में दिया गया आज तक का सबसे लंबा भाषण है.

1953 में कृष्ण मेनन राज्य सभा के सदस्य बने. 3 फ़रवरी 1956 को, उन्हें केंद्रीय मंत्रिमंडल में बिना विभाग के मंत्री के रूप में शामिल किया गया. 1957 में वे मुंबई से लोक सभा के लिए चुने गए थे और उसी वर्ष अप्रैल में उन्हें प्रधानमंत्री नेहरू के अधीन रक्षामंत्री नामित किया गया था. सैनिक स्कूल सोसाइटी जो अभी भारतवर्ष में कुल 24 स्कूल चला रही है, के तत्वावधान में भारत में सैनिक स्कूलों की अवधारणा के पीछे वे ही थे. हालांकि, 1962 के भारत-चीन युद्ध में भारत की हार के बाद उन्होंने देश की सैन्य तैयारियां न होने के कारण अपने पद से त्यागपत्र दे दिया था. 1967 में वे अपना संसदीय चुनाव हार गए थे, लेकिन फिर 1969 में मिदनापुर से पुनः निर्वाचित हुए. वे तिरुवनंतपुरम से संसद के लिए दुबारा चुने गए थे. उनका निधन 6 अक्टूबर 1974 को नई दिल्ली में हुआ था.

No comments:

Post a Comment